हार के बाद अमित शाह को बचाने की तैयारियां अभी से शुरू, सोशल मीडिया सेल में तैयारियां

हार के बाद अमित शाह को बचाने की तैयारियां अभी से शुरू, सोशल मीडिया सेल में तैयारियां

नई दिल्ली: आने वाले दिन अमित शाह के लिए कैसे होने वाले हैं इसका अंदाज़ा लगाना है तो आप सोशल मीडिया सेल में चल रही तैयारियों को समझ लीजिए. आपको अचरज होगा कि सोशल मीडिया सेल में आजकल चुनाव प्रचार जितना ही ध्यान इस बात पर प्लानिंग में दिया जा रहा है कि यूपी हार जाने के बाद अमित शाह और मोदी को सोशल मीडिया पर कैसे बचाया जाएगा. जो कैंपेन तैयार हो रहा है उसके मुताबिक आने वाले समय में सोशल मीडिया कैंपेन का फोकस मोदी की यूपी पंजाब से पहले की सफलताओं पर होगा. अलग अलग तरह से फेलबुक और ट्विटर पर पेड प्रोफेशनल यह कहकर माहौल बनाते नजर आएंगे कि बीजेपी को उंचाइयों पर पहुंचाने वालों को एक हार से नीचा नहीं दिखाना चाहिए.
दरअसल सबसे बड़ा सूबा यूपी प्रधानमंत्री के दाहिने हाथ के लिए खतरे की घंटी बजाने लगा है. इसे कहीं बाहर नहीं, खुद भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के भीतर सुना जा सकता है. नाराज़गी की कुछ वजह अमित शाह की मनमानी है. वो स्थानीय नेताओं को नज़र अंदाज़ करते रहे और उन्हें करीब करीब महत्वहीनता का बोध कराने की स्थिति में ला दिया. अमित शाह की एरोगेंस हर मीटिंग में दिखाई देती थी और उनके सभी संवादों का ‘मूल तत्व होता था जितना कहा जा रहा है उतना करो’ ये कारण खास ध्यान देने वाले हैं.
1. यूपी विधानसभा चुनाव के टिकट बांटने का एकाधिकार चुनाव समिति की दो बैठकों के बाद अमित शाह को दिया गया था. टिकट ऐसे बंटे कि पार्टी में उनकी धमक ही खत्म हो गई. नाराज कार्यकर्ता एयरपोर्ट तक पीछा करने लगे.
प्रधानमंत्री के चुनाव क्षेत्र बनारस में लगातार सात बार के विधायक श्यामदेव रायचौधरी “दादा” का टिकट कटने के बाद से प्रदर्शन हो रहे हैं. मनमाने टिकट बंटवारे पर आरएसएस के यूपी में सक्रिय छह में से चार क्षेत्रीय प्रचारकों ने नाराजगी जताई है.
यह पहला मौका है जब पार्टी कार्यकर्ता इतनी तादाद में टिकट बंटवारे के ख़िलाफ़ नेताओं की गाड़ियों के आगे लेटकर रास्ता रोक रहे हैं, अमित शाह समेत प्रदेश अध्यक्ष केशव मौर्य और प्रदेश प्रभारी ओम माथुर के पुतले फूंके जा रहे हैं.दलबदलुओं और पार्टी के बड़े नेताओं के बेटे-बेटियों को टिकट देना मुद्दा बन रहा है. भाजपा में जातिवादी रंग की गुटबाजी पुरानी है जिसके सूत्रधार एक बात पर एकमत हैं कि स्थानीय नेताओं की नहीं सुनने वाले अमित शाह का हद से अधिक दखल बंद होना चाहिए.
2. भाजपा के पास कोई ऐसा दमदार नेता नहीं था जिसे भावी मुख्यमंत्री के रूप में पेश किया जा सके लिहाजा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और प्रधानमंत्री मोदी के चेहरे ही आमने-सामने हैं. इस स्थिति का फ़ायदा उठाते हुए सांसद, गोरखनाथ पीठ के महंत आदित्यनाथ की हिंदू युवा वाहिनी ने “देश में मोदी यूपी में योगी” के नारे के साथ पार्टी के समांतर उम्मीदवार तक उतार दिए हैं.
प्रत्यक्ष तौर आदित्यनाथ खुद मुख्यमंत्री पद की दावेदारी करने से झेंप रहे हैं लेकिन पक्का है कि उनकी नाराजगी पूर्वांचल में भाजपा का खेल बिगाड़ेगी. अगर भाजपा के पास कोई मुख्यमंत्री पद के लिए चेहरा होता तो नाकामी का ठीकरा उसके सिर फूटता लेकिन अब नतीजों के जिम्मेदार सिर्फ और सिर्फ अमित शाह होंगे.
3. पहले पार्टी ने पाकिस्तान के अंदर घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक और नोटबंदी के जरिए कालेधन के खात्मे को मुद्दा बनाया था लेकिन अब दोनों एजेंडे से ग़ायब हो रहे हैं. सभाओं में भाजपा नेता जब नोटबंदी के फ़ायदों का जिक्र करते हैं तब चुप्पी छाई रहती है.
इसके बजाय अब पुराने आजमाए नुस्खे यानी धार्मिक ध्रुवीकरण पर ज़ोर है. मुज़फ्फ़रनगर के कैराना से हिंदुओं के तथाकथित पलायन और भाजपा की सरकार बनने पर माफिया मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद और आज़म ख़ान को जेल भेजने को मुद्दा बनाया जा रहा है.
भाजपा ने इस बार एक भी मुसलमान को टिकट नहीं दिया है और इससे भी हैरत की बात यह है कि धार्मिक ध्रुवीकरण के बयानों पर मुसलमानों की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं हो रही है.
4. भाजपा पांच साल से अखिलेश यादव की सरकार द्वारा छात्रों को लैपटॉप बांटने को दिल बहलाने वाला झुनझुना बता रही थी. लेकिन मुद्दों के बेअसर होने के कारण लैपटॉप और फ्री डेटा बांटना भाजपा के चुनाव घोषणापत्र में सबसे ऊपर आ गया है. इसे समाजवादी पार्टी की नकल के रूप में देखा जा रहा है.
5. चुनाव में सामने प्रधानमंत्री मोदी की तीन साल पुरानी सरकार है इसलिए सपा-कांग्रेस और बसपा दोनों भाजपा के नए वायदों को जवाब में उन वायदों की याद दिला रहे हैं जो पिछले लोकसभा चुनाव के समय किए गए थे. इनमें सबसे ऊपर कालाधन और हर वोटर के खाते में पंद्रह लाख देने का मसला सबसे ऊपर है जिसे अमित शाह पहले ही जुमला बताकर पार्टी के भीतर पर्याप्त आलोचना पा चुके हैं.
जाहिर बात हे जब यूपी में असफलता हाथ लगेगी तो लीडर अमित शाह को घेरेंगे. ये भी सवाल उठेगा कि कहीं मोदी का जादू तो कम नहीं हो रहा. मुरली मनोहर जोशी और आडवाणी जैसे दिग्गत बार बार एक तरफ बिठा देने से नाराज़ हैं. वरुण गांधी भी मौके के इंतज़ार में है. ऐसे हालाते में यूपी की हार सही मौका होगी जब विरोधी हमला बोलेंगे.
जाहिर बात है शाह को इसका अंदाजा है इसीलिए सोशल मीडिा पर इस आक्रमण का जवाब देने की तैयारी चल रही है.