ट्रंप का अगला निशाना भारत वासी, जारी होने से पहले ही लीक हुआ ऑर्डर

ट्रंप का अगला निशाना भारत वासी, जारी होने से पहले ही लीक हुआ ऑर्डर




नई दिल्ली: डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका में जाने वाले भारतीय प्रोफेशनल के लिए नई मुसीबत लेकर आ सकते हैं. गौरतलब है कि भारत की ज्यादातर आईटी कंपनियां अपने एंप्लॉयीज को एच1बी वीजा के जरिए ही अमेरिका भेजती हैं. ट्रंप का ये ऑर्डर जारी होने से पहले ही लीक हो गया है. है.

समाचार वेबसाइट vox. com के मुताबिक ट्रंप के चार ड्राफ्ट ऑर्डर लीक हुए हैं. लीक ड्रॉफ्ट ऑर्डर में खुलासा हुआ है कि ट्रंप आगे चलकर कुछ ऐसे फैसले लेने वाले हैं जिनसे भारतीय आईटी सेक्टर को काफी परेशानी हो सकती है.

vox. com के मुताबिक ट्रंप अपने अगले कार्यकारी आदेश में ‘कानूनी आव्रजन’ को कम करने का आदेश दे सकते हैं. यह लीक हुए ड्राफ्ट ऑर्डर में से एक है. इसमें कहा गया है कि कानूनी तौर पर अमेरिका आने वालों की संख्या घटाई जाएगी.

ट्रंप का मानना है कि ऐसा करने से अमेरिकी नागरिकों के लिए रोजगार के ज्यादा अवसर उपलब्ध हो सकेंगे. गौरतलब है कि एच1बी वीजा के जरिए बड़ी संख्या में भारतीय अमेरिका जाते हैं. यदि ट्रंप ‘कानूनी आव्रजन’ को कम करते हैं तो इसका सबसे ज्यादा नुकसान भारतीयों को होगा.

ड्रॉफ्ट में यह भी कहा गया है कि विदेशी छात्रों की कड़ी निगरानी की जाएगी और एच-1बी वीजाधारकों को काम पर रखने वाली कंपनियों की जांच होगी. ट्रंप ओबामा सरकार के उस फैसले को भी पलटने का सोच रहे हैं जिसमें उन्होंने एच-1बी वीजा धारकों की पत्नियों को अमेरिका में काम करने का अधिकार दिया था.

 

एच-1बी एक प्रोफेशनल वीजा है, जो लोगों को अमेरिका की कंपनियों में तीन साल तक काम करने की इजाजत देता है. इसका अगले तीन साल के लिए नवीनीकरण भी हो जाता है, मगर ट्रंप इसमें भारी कटौती करने जा रहे हैं. आईटी कंपनियों के अधिकारियों का कहना है कि ऐसे में वह अपने क्लाइंट को खो देंगे.