पुराने नोट जमा करने का मिलेगा एक और मौका, घर में पड़ें हों तो फेंकियेगा मत

पुराने नोट जमा करने का मिलेगा एक और मौका, घर में पड़ें हों तो फेंकियेगा मत




केस-1. नोट बंदी हुई तो सीमा अस्पताल में भर्ती थी. उसके नोटों का पता भी उसे ही था. जब बाहर आई तो आखिरी तारीख निकल चुकी थी.
केस-2. राजेन्द्र कुमार नोटबंदी के समय देश के बाहर थे. वापस लौटे तो आखिरी तारीख निकल चुकी थी. उनके पास 10 हज़ार रुपये बच गए थे.
ऐसे लोगों को भारतीय रिजर्व बैंक पुराने नोट बैंकों में जमा करने का एक और मौका दे सकता है. इसके लिए सीमा तय की जा सकती है. 30 दिसंबर की तारीख पुराने नोटों को बैंकों में जमा करने के लिए तय की गई थी. वहीं, 31 मार्च तक रिजर्व बैंक में पुराने नोट जमा कराने का प्रावधान रखा गया है.
सूत्रों के मुताबिक रिजर्व बैंक को लगातार लोगों की शिकायतें मिल रही हैं.
कुछ लोग ऐसे है जिनके पास बहुत कम मात्रा में जाने-अंजाने पुराने नोट बच गए हैं, और वे उन्हें बैंक में जमा कराना चाहते है.
आरबीआई कैश की किल्लत भी दूर करने पर विचार कर रहा है. बैंक अधिकारियों के मुताबिक अगले महीने के अंत तक बैंकों और एटीएम से साप्ताहिक नकदी की निकासी की सीमा को खत्म किया जा सकता है.
हाल ही में RBI ने एटीएम से नकदी की निकासी की एक बार की सीमा 10,000 रुपये कर दी थी, लेकिन साप्ताहिक निकासी की सीमा सेविंग अकाउंट की 24,000 रुपये और करेंट अकाउंट की 1 लाख रुपये ही बरकरार रहने दी.
बैंक ऑफ महाराष्ट्र के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर आरके गुप्ता ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि फरवरी के अंत तक या मार्च की शुरुआत में बैंकों और एटीएम से साप्ताहिक निकासी की सीमा को खत्म किया जा सकता है. हालांकि इस संबंध में अंतिम फैसला आरबीआई हालातों की जांच पड़ताल कर के बाद लेगा.