चेन्नई में 90 नहीं 170 करोड़ के नोट हुए बरामद, ज्यादातर नोट 2000 के, सोना भी कहीं अधिक, ज्यादातर माल अफसरों और नेताओं का

चेन्नई में 90 नहीं 170 करोड़ के नोट हुए बरामद, ज्यादातर नोट 2000 के, सोना भी कहीं अधिक, ज्यादातर माल अफसरों और नेताओं का

चेन्नई: आयकर विभाग के छापों में 90 करोड़ नहीं बल्कि 170 करोड़ की रकम पकड़ी गई है. इसी तरह जो सोना बरामद किया गया वो 100 किलो न होकर 130 किलो है. इसमें से ज्यादातर पैसा दो हज़ार के नए नोटों की शक्ल में था और चेन्नई के एक थ्री स्टार होटल से बरामद किया गया. जानकारों का कहना है ये पैसा बड़े अफसरों और नेताओं का था.

नोटबंदी के बाद महानगर में आयकर विभाग की ओर से यह अब तक की सबसे बड़ी छापेमारी है. इसके तहत विभाग की अलग-अलग टीमों ने अण्णा नगर में एक ज्वेलरी शोरूम के मालिक के मकान, पीडब्ल्यूडी के कॉन्ट्रेक्टर के मकान और कार्यालय सहित आठ जगहों पर एक साथ छापा मारा. छापेमारी गुरुवार सुबह 11 बजे की गई. बताया जा रहा है कि 90 करोड़ में से 70 करोड़ रुपए के दो हजार के नए नोट हैं.

सूत्रों के अनुसार आयकर विभाग ने व्यवसायी और कॉन्ट्रेक्टर श्रीनिवास रेड्डी, शेखर रेड्डी और प्रेमकुमार के टी. नगर, मोगाप्पेयर वेस्ट और अण्णा नगर स्थित मकानों और कार्यालय में छापेमारी कर इतनी बड़ी रकम बरामद की. श्रीनिवास रेड्डी, शेखर रेड्डी और प्रेमकुमार पर आय से अधिक संपत्ति होने के आरोप के अलावा तीनों पर कालाधन रैकेट चलाने का भी आरोप है.

सूत्रों ने बताया कि तीनों कालेधन को सफेद करने के लिए कुछ लोगों की मदद से बैंकों में नकदी जमा करवा रहे थे. इसकी सूचना आयकर विभाग को मिली. उसके बाद आयकर विभाग के अधिकारियों ने इनके ठिकानों पर दबिश दी. शेखर रेड्डी राज्य के वेलूर जिले के काटपाडी का रहने वाला है.

उसके घर पर भी छापेमारी की गई. वह पीडब्ल्यूडी और बालू उत्खनन का सरकारी कॉन्ट्रेक्टर है. वही श्रीनिवास रेडडी अण्णा नगर में रहता है. वह शेखर रेड्डी का सहयोगी है. प्रेमकुमार एजेंट है जो इनके कालेधन को सफेद करवा रहा था. अधिकारियों ने छापेमारी में कई महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त करने के साथ ही इलेक्ट्रोनिक सबूत भी जुटाए हैं.