सरकार के बाद अब RBI का यू टर्न , कैश जमा करने पर 5000 की सीमा हटाई

सरकार के बाद अब RBI का यू टर्न , कैश जमा करने पर 5000 की सीमा हटाई




नई दिल्ली: नोटबंदी के बाद लगातार बदल रहे दिशा निर्देशों के बीच अब आरबीआई ने फिर एक यू टर्न लिया है. अब 5000 रुपये से ज्यादा रकम जमा करने पर आरबीआई ने शर्तें हटा दी हैं. पहले कहा गया था कि 5000 रुपये से ज्यादा रकम एक बार से ज्यादा जमा नहीं की जा सकेगी और अगर कोई नकद जमा करता है तो उसे कारण भी बताना होगा.

नोटबंदी के बाद वित्त मंत्रालय ने सोमवार को बैंक खातों में पुराने नोट जमा करने की सीमा का ऐलान किया था. वित्त मंत्रालय के नए दिशा-निर्देश के मुताबिक, बैंक खाते में एक बार में 5000 रुपये से ज्यादा की रकम पुराने नोट में जमा नहीं करा सकेंगे. इसके विरोध में पेशे से वकील संगम लाल पांडे ने एक जनहित याचिका भी दाखिल की थी.

रिजर्व बैंक की ओर से जारी दिशानिर्देश में कहा गया है कि 5,000 रुपये से ज्यादा की राशि भी सिर्फ उन्हीं खातों में जमा हो पाएगी, जिसका केवाइसी जमा है. साथ ही उन्हें बैंक अधिकारियों को यह बताना होगा कि उन्होंने बंद हो चुके 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट अब तक बैंक में जमा क्यों नहीं कराए थे. आपका जवाब संतोषजनक लगने पर ही उन्हें राशि जमा करने की इजाजत दी जाएगी. इसके साथ ही आपके जवाब को ऑडिट के लिए रिकॉर्ड में दर्ज किया जाएगा. वहीं जिस खाते का केवाइसी जमा नहीं कराया गया है, उसमें 50,000 रुपये तक ही जमा कराने की सीमा होगी. इसका फैसला संबंधित अकाउंट से जुड़ी गतिविधियों के मुताबिक तय दिशा-निर्देशों के आधार पर होगा.