केन्द्र सरकार ने कैशलेस पर कदम पीछे खींचा, एटीएम से निकाल सकेंगे 4500

केन्द्र सरकार ने कैशलेस पर कदम पीछे खींचा, एटीएम से निकाल सकेंगे 4500




नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की  सरकार अब कैशलेस पर अपने कदम पीछे खींचती नज़र आ रही है.अबतक कैशलेस के लिए जनता के सारे पैसे छीन लेने और उसे कैशलेस होने के लिए पूरा दबाव बनाने के बाद मोदी सरकार ने बाज़ार में फिर से कैश का बहाव बढ़ाने का फैसला किया है.

1 जनवरी से सरकार एटीएम से निकाले जाने वाली रकम को बढ़ाने जा रही है. अब लोग एक बार में 4500 रुपए निकाल सकेंगे.

आरबीआई (रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया) ने एटीएम से ढाई हजार रुपए की लिमिट तो बढ़ा दी है, लेकिन एक खाते से हफ्ते में सिर्फ 24 हजार रुपए निकालने की लिमिट अभी लागू रहेगी.

बैंकों में 1000 और 500 के पुराने नोट जमा करवाने का समय भी शुक्रवार को खत्म हो गया. ये नोट अब 31 मार्च तक आरबीआई में ही जमा होंगे. हालांकि ये साफ नहीं हो पाया है कि सरकार अभी 2000 रुपये के हिसाब से एटीएम में पैसे जमा नहीं कर पा रही तो 4500 रुपये की दर से पैसे कैसे मुहैया कराएगी ?

लेकिन इसके लिए वैलिड रीजन बताना होगा कि 30 दिसंबर तक पुराने नोट क्यों नहीं जमा किए गए?

इस बीच, शनिवार से लोगों के खाते में सैलरी आनी शुरू हो गई है.

10 से ज्यादा पुराने नोट रखने को अपराध करार देने वाला ऑर्डिनेंस भी शुक्रवार रात से लागू हो गया है. इसके मुताबिक किसी के पास 10 हजार से ज्यादा 500/1000 रु. के पुराने नोट पाए जाने पर जुर्माना भरना होगा.

ऑर्डिनेंस के मुताबिक, एक जनवरी से 31 मार्च तक अगर आपके पास तय लिमिट से ज्यादा पुराने नोट मिलते हैं तो 5 हजार या उसका 5 गुना जुर्माना लगेगा. 31 मार्च के बाद जुर्माना बढ़कर 10 हजार या 5 गुना (जो ज्यादा हो) हो जाएगा.