जानिए अमेरिका में भारत का कैसे उड़ रहा है मज़ाक, नोट बंदी का सबसे बड़े चैनल में उड़ा मज़ाक, इसके साथ ही उड़ाया सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का भी मज़ाक ..

जानिए अमेरिका में भारत का कैसे उड़ रहा है मज़ाक, नोट बंदी का सबसे बड़े चैनल में उड़ा मज़ाक, इसके साथ ही उड़ाया सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का भी मज़ाक ..

हमारी खबरें फॉर्वर्ड होकर आपतक पहुंचें इतना इंतज़ार क्यों. सीधे पेज लाइक करें या सब्सक्राइब करें और पाएँ खबरें सबसे पहले.

नई दिल्ली: अमेरिका  में मोदी के नोटबंदी के फैसले पर जबरदस्त जगहंसाई हो रही है. अमेरिका के मशहूर टीवी चैनल कॉमेडी सेंट्रल पर इसका जबरदस्त मजाक बनाया गया. उस टीवी चैनल पर आने वाले THE DAILY SHOW WITH TREVOR NOAH में भारत में हुई नोटबंदी के साथ-साथ सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के बजने के फैसले का भी मजाक बनाया गया है.

शो में एंकर ने दोनों ही फैसलों का मजाक बनाया है. शो में भारत के राष्ट्रगान के साथ-साथ अमेरिका के राष्ट्रगान का भी मजाक बनाया गया है. यह शो 1 दिसंबर 2016 को आया था. इसके साथ ही वीडियो में भारत का गलत नक्शा भी दिखाया गया. यह शो 1 दिसंबर 2016 को आया था. शो में भारत का राष्ट्रगान गाते हुए एंकर ने मजाक बनाते हुए कहा, ‘पता नहीं राष्ट्रगान का मुद्दा भारत में कितनी दूर तक जाएगा. पहले उन्होंने मूवी से पहले इसे बजाने को कहा है.

आगे किराने की दुकान पर शुरू करेंगे. फिर हर बार राष्ट्रगान के शुरू होने से पहले भी एक बार राष्ट्रगान होगा. वहीं अगर कोई आपातकाल की स्थिति में मदद मांगने के लिए फोन करेगा और कहेगा कि उसके घर में आग लग गई है और उसे मदद चाहिए तो उधर से शख्स कहेगा कि फायर ब्रिगेड निकल रही है लेकिन उस से पहले जन गण मन….’ इसके अलावा नोटंबदी के बाद बैंकों के बाहर लगी लाइनों और हो रहे प्रदर्शनों का भी जिक्र किया गया है.
वहीं 30 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट का आदेश आया था कि सभी सिनेमा घरों में फिल्म के शुरू होने से पहले राष्ट्रगान चलवाना होगा. इसके अलावा राष्ट्रगान के वक्त स्क्रीन पर तिरंगा भी दिखाना की जरूरी किया गया था.

राष्ट्रगान के सम्मान में सभी दर्शकों को खड़ा होना होगा यह भी कहा गया था. राष्ट्रगान बजाने की जनहित याचिका श्याम नारायण चौकसे नाम के शख्स ने डाली थी. उन्होंने मांग की थी कि देशभर में सिनेमाघरों में फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान बजाया जाना चाहिए और इसे बजाने तथा सरकारी समारोहों और कार्यक्रमों में इसे गाने के संबंध में उचित नियम और प्रोटोकॉल तय होने चाहिए जहां संवैधानिक पदों पर बैठे लोग मौजूद होते हैं.