सहारा, बिड़ला डायरी की फाइलें CAG ने मांगी! मोदी को बचाने की कोशिश तो नहीं?

सहारा, बिड़ला डायरी की फाइलें CAG ने मांगी! मोदी को बचाने की कोशिश तो नहीं?




नई दिल्ली: प्रधानमंत्री मोदी पर सीएजी ने फैसला किया है कि वो सहारा और आदित्य बिड़लाग्रुप पर हुई रेड की जांच करेगा. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कैग बीते 4 साल में आयकर विभाग की तरफ से किए गए सभी बड़े सर्च और सीज ऑपरेशंस का ऑडिट कर रहा है.

इसमें सहारा और आदित्य बिड़ला ग्रुप पर की गई दो सर्च भी शामिल हैं. सहारा और आदित्य बिड़ला ग्रुप की डायरियों में प्रधानमंत्री मोदी का नाम आने के बाद आयकर विभाग मामले की जांच कर रहा है. लेकिन कैग का इस मामले में आना सीधे संदेश है कि आयकर विभाग की जांच पर पर अब सीएजी की नकेल होगी.

जानकारों का कहना है कि जबतक  आयकर विभाग अपनी जांच मुकम्मल नहीं कर लेता तबतक किसी दूसरी एजेंसी का उसमें दखल करना सही रवायत नहीं होगी. लेक

कांग्रेस ने हाल ही में आरोप लगाया था कि आदित्य और सहारा ग्रुप की डायरियों में पीएम नरेंद्र मोदी को गुजरात का सीएम रहने के दौरान पैसे दिए गए थे. अचानक सीएजी का इस तरह जांच को हाथ में ले लेना इस वजह से भी कई सवाल खड़े करेगा.

कई कांग्रेस और बीजेपी नेताओ के नाम शामिल

सहारा की डायरियों में पीएम मोदी के अलावा कई अन्य बीजेपी नेताओं और अन्य दलों के नेताओं के नाम भी शामिल हैं. यही नहीं इस डायरी में दिल्ली की पूर्व सीएम और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता शीला दीक्षित का नाम भी शामिल हैं.

यह मामला सुप्रीम कोर्ट में भी दायर हुआ है, जिसने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की छापेमारी में बरामद की गई डायरियों को लेकर किसी भी तरह की जांच का आदेश अब तक नहीं दिया है.

गौरतलब है कि कैग ने केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड से कहा था कि वह सभी बड़ी आयकर सर्च के डेटा साझा करे. इसके अलावा उसने एक आयकर विभाग की ऑडिट टीम के साथ कॉर्डिनेट करने के लिए भी एक टीम को भेजा था ताकि इन दो बड़ी सर्च की जानकारी हासिल की जा सके.