“अटल बिहारी वाजपेयी नहीं रहे ” अलीगढ़ की मेयर ने कहा यादों में रहेंगे !!!!

“अटल बिहारी वाजपेयी नहीं रहे ” अलीगढ़ की मेयर ने कहा यादों में रहेंगे !!!!




नई दिल्ली:”पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी नहीं रहे उनकी यादे हमारे साथ हैं”.

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर अलीगढ़ की मेयर शकुंतला भारती ने 24 दिसंबर को एक कार्यक्रम के दौरान स्कूली बच्चों से ये बात कही.

जब अलीगढ़ मेयर को उनके भाषण का वीडियो दिखाया गया तो उन्‍होंने कहा, ”मुझे नहीं पता ऐसे कैसे हुआ.

उन्होंने कह दिया कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी अब हमारे बीच नहीं रहे. भाजपा नेता ने वाजपेयी के जन्‍मदिन की पूर्व संध्‍या पर यह बयान दिया.

टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार भारती ने एक स्‍कूल में छात्रों को संबोधित करते हुए कहा, ”भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी हमारे बीच में नहीं रहे लेकिन उनकी यादें हैं.”

उनके इस बयान ने वहां मौजूद लोगों को सकते में डाल दिया. कार्यक्रम के दौरान मौजूद भाजपा और अन्‍य पार्टियों के नेताओं ने भारती के बयान की आलोचना की.

पूर्व अलीगढ़ जिला पंचायत सदस्‍य और बसपा नेता नरेंद्र पचौरी ने कहा कि इस तरह के बयान स्‍वीकार्य नहीं हैं. उन्‍होंने तो भारती को भविष्‍य में भाषण ना देने की सलाह भी दे डाली.

बयान पर विवाद होने के बाद भारती ने हालांकि सफाई दी लेकिन तब तक देरी हो चुकी थी.

उन्‍होंने कहा कि वह मालवीय के बारे में बोल रहीं थी ना कि वाजपेयी के बारे में. टाइम्‍स ऑफ इंडिया के अनुसार, जब अलीगढ़ मेयर को उनके भाषण का वीडियो दिखाया गया तो उन्‍होंने कहा, ”मुझे नहीं पता ऐसे कैसे हुआ.

यदि मैंने गलती की है तो मुझे इस पर खेद है. वाजपेयी जी का मैं काफी सम्‍मान करती हूं और उनके लंबे व स्‍वस्‍थ जीवन की प्रार्थना करती हूं.” उन्‍होंने साथ ही कहा कि वह अपने बयान के चलते दुखी महसूस कर रही हैं. भारती ने कहा कि अगर उनके बयान से किसी को चोट पहुंची है तो वह बिना शर्त माफी मांगती हैं.

अलीगढ़ मेयर और भाजपा नेता शकुंतला भारती इससे पहले भी कई बार विवादों में आ चुकी हैं. इसी साल जुलाई में उन पर साम्‍प्रदायिक सौहार्द्र बिगाड़ने का आरोप लगा था.

इससे पहले फरवरी में उन्‍होंने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में बीफ परोसे जाने का आरोप लगाया था. हालांकि यूनिवर्सिटी की ओर से इसका खंडन किया गया था.

जून में भारती ने आरोप लगाया कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के अधिकारियों ने गाय की हत्‍या की और छोटे से मंदिर को नष्‍ट कर दिया.