ट्रंप जीते तो भारत में खड़ा हो जाएगा रोजगार का संकट, जानिए कौन हो सकता है बेरोजगार

वाशिंगटन: रिपब्लिकन राष्‍ट्रपति उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने दावा किया है कि अमेरिकी विश्‍व के इतिहास में ‘नौकरियों की सबसे बड़ी चोरी’ से जूझ रहे हैं और अमेरिकी कंपनियां भारत, चीन, मेक्सिको एवं सिंगापुर जैसे देशों में नौकरियां ले जा रही हैं. अगर ट्रंप की सरकार बनती है और वो सचमुच ऐसे कदम उठाते हैं तो भारत में आधी कॉर सेंटर की नौकरियां बंद हो जाएंगी.

हम NESCOMकी रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 22 लाख से ज्यादा लोग बीपीओ सेक्टर से नौकरियां पाते हैं. इनमें 31 फीसदी महिलाएं हैं. 25 से 30 फीसदी युवा इसी सैक्टर से नौकरी पाते हैं. अगर ट्रंफ की चली तो भारत में बीपीओ सेक्टर चौपट हो जाएगा.   इसके अलावा बड़ी संख्या में बीपीओ का सपोर्ट स्टाफ है जिनमें टैक्सियां , ऑफिस स्टाफ बगैरह शामिल हैं. इन सभी को बेरोजगार होना पड़ेगा.

उन्होंने शनिवार को फ्लोरिडा के टेंपा में अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा,”चीन के विश्व व्यापार संगठन में प्रवेश के बाद से अमेरिका 70,000 फैक्ट्रियां गंवा चुका है, दूसरा बिल और हिलेरी ने त्रासदी का साथ दिया. हम विश्व के इतिहास में नौकरियों की सबसे बड़ी चोरी से जूझ रहे हैं. कभी कोई ऐसा देश नहीं रहा जिसने इतने बेवकूफाना तरीके से हमारी तरह नौकरियां खोई हों, लेकिन बड़ा आसान है इसे हल करना.”

उन्होंने उदाहरण दिया, ”गुडरिच लाइटिंग सिस्टम्स ने 255 कर्मचारियों को हटाया एवं उनकी नौकरियां भारत स्थानांतरित कीं. बैक्सटर हेल्थ केयर कोरपोरेशन ने 199 कर्मचारियों को हटाया एवं उनकी नौकरियां सिंगापुर स्थानांतरित कीं. एस्सिलेर लेबोरेटरीज ने 181 श्रमिकों की छंटनी की और उनका काम मेक्सिको भेज दिया. यह बद से बदतर होता जा रहा है.” उन्होंने कहा कि चुनाव जीतने पर ट्रंप प्रशासन नौकरियां अमेरिका से नहीं जाने देगा.

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें