नोट बंद करने से तेज़ी से गिरी मोदी की लोकप्रियता. ट्विटर पर 3 लाख समर्थक कम हुए

नोट बंद करने से तेज़ी से गिरी मोदी की लोकप्रियता. ट्विटर पर 3 लाख समर्थक कम हुए

हमारा फेसबुक पेज लाइक करें या फिर करें ईमेल पर सब्सक्राइब

नई दिल्ली: लगता है काले धन पर सर्जिकल स्ट्राइक करते करते मोदी ने अपनी लोकप्रियता पर ही बम गिरा दिए हैं. 1000 और 500 रुपये के करेंसी नोट बंद करने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई घोषणा के बाद उनकी लोकप्रियता धड़ाधड़ गिर रही है. आलम यह हो गया है कि पीएम मोदी की आलोचना करने वालों की संख्या बढ़ गई है. ट्विटर पर इस नाराज़गी को आसानी से समझा जा सकता है. मोदी के फॉलोअर इस फैसले से अचानक से कम हो गए हैं और राहुल केजरीवाल के बढ़ गए.

आठ नवंबर की रात की गई घोषणा के अगले दिन यानी नौ नवंबर को नरेंद्र मोदी के ट्विटर फॉलोअर्स की संख्या में तीन लाख से भी ज्यादा की कमी आ गई. माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट के हर उतार-चढ़ाव पर नजर रखने वाली ट्विटर काउंटर नामक वेबसाइट के मुताबिक इस दिन (9 नवंबर को) आश्चर्यजनक रूप से नरेंद्र मोदी के 3 लाख 13 हजार ट्विटर फॉलोअर्स ने उन्हें अनफॉलो कर दिया.
उपरोक्त ग्राफ के जरिए मोदी के ट्विटर समर्थकों में आई तेज गिरावट को सममझा जा सकता है. सोशल मीडिया एनालिटिक्स पर नजर रखने वाली एक अन्य वेबसाइट ट्रैकेलिटिक्स के मुताबिक भी मोदी के ट्विटर फॉलोअर्स की संख्या में एक दिन में 3 लाख 18 हजार की गिरावट देखी गई.

बता दें कि 23 लाख 80 हजार फॉलोअर्स के साथ मोदी देश में ट्विटर पर सबसे ज्यादा फॉलो की जाने वाली शख्सियत हैं. मोदी के पीछे दूसरे पायदान पर उनके करीब ही बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन हैं जिनके फॉलोअर्स की संख्या 23 लाख 30 हजार है.

हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फॉलोअर्स की संख्या में आई कमी इसलिए चौंकाने वाली है क्योंकि बीते काफी वक्त से इसमें लगातार बढ़ोत्तरी हो रही थी.

नवंबर में ही औसतन रोजाना मोदी के ट्विटर फॉलोअर्स की संख्या में 25 हजार का इजाफा हो रहा था. 1000-500 के करेंसी नोटों को बंद करने की घोषणा वाले दिन यानी 8 नवंबर को यह संख्या और ज्यादा बढ़ते हुए 50 हजार के करीब पहुंच गईं थी. लेकिन उस रात को मोदी द्वारा की गई घोषणा के बाद ट्विटर फॉलोअर्स का गुस्सा शायद ट्विटर पर देखने को मिला. ctsy – catch hindi