मोदी सरकार से निराश पूर्व सैनिक ने ज़हर खाया, जंतर मंतर पर एक रैंक एक पद के लिए दे रहा था धरना

मोदी सरकार से निराश पूर्व सैनिक ने ज़हर खाया, जंतर मंतर पर एक रैंक एक पद के लिए दे रहा था धरना




देशभक्ति का दिखावा करने वाले नेता असल में फौजियों के लिए कितना संवेदनशील होते हैं इसका अंदाज़ा इस सुसाइड की खबर से लगाया जा सकता है. राजधानी में वन रैंक-वन पेंशन की मांग को लेकर एक पूर्व सैनिक के जहर खाकर आत्महत्या करने का मामला सामने आया है.घटना की खबर सुनते ही दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल रामकिशन के परिवार से मिलने पहुंचे. मृतक पूर्व सैनिक वन रैंक-वन पेंशन मुद्दे पर सरकार के फैसले से संतुष्ट नहीं था. जिसके चलते मृतक और उनके कुछ साथी सोमवार से जंतर-मंतर पर धरना दे रहे थे.

मृतक पूर्व सैनिक का नाम रामकिशन ग्रेवाल था. रामकिशन हरियाणा के रहने वाले थे. पुलिस के मुताबिक, रामकिशन वन रैंक-वन पेंशन मुद्दे पर सरकार के फैसले से असहमत थे. जिसकी वजह से वह अपने कुछ साथियों के साथ सोमवार से जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे थे.

परिजनों की माने तो मंगलवार दोपहर रामकिशन अपने साथियों के साथ अपनी मांगों को लेकर रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर से मिलने जा रहे थे, लेकिन रास्ते में ही रामकिशन ने जहर खा लिया. आनन-फानन में रामकिशन को राम मनोहर लोहिया अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान रामकिशन की मौत हो गई.

बता दें कि रामकिशन ने आत्महत्या से पहले ज्ञापन के पीछे एक सुसाइड नोट भी लिखा था. वहीं रामकिशन के छोटे बेटे ने बताया कि उसके पिता ने खुद इस बात की सूचना उसे फोन पर दी थी. फिलहाल पुलिस इस मामले की तफ्तीश में जुटी है.

राम किशन के सुसाइड की खबर सुनकर दिल्ली में सनसनी फैल गई. आनन फानन में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल उनके घर पहुंच गए