आखिर बीजेपी को अपने वोट बैंक की सुध आई. नोटबंदी में व्यापारियों को दी ये राहत

आखिर बीजेपी को अपने वोट बैंक की सुध आई. नोटबंदी में व्यापारियों को दी ये राहत




नई दिल्ली: लीजिए बीजेपी ने आखिर अपने वोट बैक की सुध ले ही ली. व्यापारियों को मोदी सरकार ने अपने सख्त रवैये के बीच से थोड़ी राहत दी है . आज रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की ओर से एक नया ऐलान किया गया है. केंद्रीय बैंक आरबीआई ने कहा है कि यदि आपका करंट अकाउंट है या फिर आप ओवरड्राफ्ट अकाउंट होल्डर हैं तो एक हफ्ते में 50,000 रुपए तक नकदी आसानी से निकाल पाएंगे. बीजेपी के परंपरागत वोट बैंक रहे कारोबारियों के लिए यह घोषणा राहत की बात है.

आऱबीआई ने अपनी वेबसाइट पर इस बारे में सूचना जारी की . हालांकि यह विदड्रॉल लिमिट पर्सनल ओवरड्राफ्ट खाताधारकों पर नहीं है. 14 नवंबर को केंद्रीय बैंक ने यह राहत करंट अकाउंट होल्डर्स को दी थी.

आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने पिछले दिनों घोषणा की थी कि सरकार कम से कम तीन महीने पुराने करंट अकाउंट्स में से कैश विदड्राल की लिमिट प्रति सप्ताह 50 हजार रुपए कर रही है. करंट अकाउंट दरअसल बैंक अकाउंट का वह प्रकार है जो कारोबारियों की प्रतिदिन की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए सुविधाजनक होता है. इसमें एक दिन में किए जाने वाले ट्रांजैक्शन्स की संख्या सीमित नहीं होती.