क्या ये ब्लास्ट सचमुच पटाखों का था? हालात खड़े कर रहे हैं कई सवाल

क्या ये ब्लास्ट सचमुच पटाखों का था? हालात खड़े कर रहे हैं कई सवाल




पुरानी दिल्ली के व्यस्त नया बाजार में एक मस्जिद के पास एक शख्सके सिर पर रखे बोरे में जबरदस्त धमाका हुआ. शुरुआती रिपोर्ट में बताया गया है कि ब्लास्ट मृतक के सिर पर रखी एक बोरी में हुआ . धमाका काफी तेज़ था जिससे आसपास की इमारतों के शीशे टूट गए. ब्लास्ट नया बाजार में एक मस्जिद के पास हुआ है, ये ब्लास्ट इतना जबरदस्त था कि आसपास की इमारतों के शीशे भी टूट गए हैं. ब्लास्ट किस चीज़ में हुआ यह अभी साफ़ नहीं हो पाया है, दिल्ली पुलिस और फोरेंसिक टीम मौके पर जाँच में जुटे हुए हैं.

पुलिस को आशंका है कि शख्स के सिर पर रखी बोरी मे पटाखे बनाने वाला बारूद था जो उसके बीड़ी पीने के कारण फट गया. टीवी चैन्ल्स पर चश्मदीदों ने आशंका जताई है कि धमाका बारूद के अलावा किसी और चीज़ का हो सकता है. चश्मदीदों का कहना है कि ….

  1. अगर ब्लास्ट पटाखों का होता तो धमाके की कई आवाज़ें होतीं
  2. ब्लास्ट अगर बोरी में भरे पटाके बनाने वाले बारूद का होता तो वो धमाके के साथ नहीं फटता बल्कि तेज़ रोशनी के साथ आग पकड़ता . धमाके के लिए एक मजबूत कवच का फटा ज़रूरी है.
  3. धमाके के कारण ब्रेड स्लाइस के बराबर मोटे 12MM शीशे टूट गए जो कि पटाखों को ब्लास्ट में मुमकिन नहीं है.
  4. धमाके से तीसरी मंज़िल पर बने दफ्तरों के भी शीशे टूट गए. इतनी दूर तक पटाखों से नुकसान मुमकिन नहीं है.

पुलिस भी इन्हीं सब विंदुओं पर जांच कर रही है. माना यही वजह है कि वो कोई साफ बयान नहीं दे रही. फिलहाल एक्सपर्ट का इंतज़ार है जो बताएंगे कि ब्लास्ट किस चीज़ से हुआ और किस तीव्रता का था.