भारत को जल्द ही करने होंगे कुछ और सर्जिकल स्ट्राइक, डोभाल की रिपोर्ट पर कैबिनेट कमिटी में विचार

भारत को जल्द ही करने होंगे कुछ और सर्जिकल स्ट्राइक, डोभाल की रिपोर्ट पर कैबिनेट कमिटी में विचार




प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को सुरक्षा पर कैबिनेट कमेटी की बैठक की. बैठक  में राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की एक रिपोर्ट में पीएम को बताया गया कि करीब 100 आतंकी नियंत्रण रेखा (एलओसी) पार करने को तैयार खड़े हैं। एनडीटीवी नें सूत्रों के हवाले से ये खबर दी है.  सूत्रों के मुताबिक रिपोर्ट में कहा गया कि ये आतंकी भारत में हमला करने की फिराक में हैं। एनएसए ने बैठक से पहले प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को खुफिया एजेंसियों से जुटाई गई जानकारियां दी हैं। सुरक्षा पर बनी कैबिनेट कमेटी ने एलओसी पर सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद दूसरी बार बैठक की है। इस कमेटी में रक्षा, विदेश और गृह मंत्री शामिल होते हैं। बैठक में सरकार को यह बताया गया है कि भारत की कार्रवाई के बाद, पाकिस्‍तानी इनफैंट्री एलओसी के निकट लॉन्‍च पैड्स की रक्षा कर रही है। इस बैठक में मौजूद सूत्रों ने कहा है कि करीब दर्जन भर लॉन्‍च पैड्स की पहचान कर ली गई है।

रक्षा जानकारों का कहना है कि लगातार हो रहे हमलों के मद्देनज़र सरकार के पास दो विकल्प होंगे. या तो वो इन आतंकवादियों  के नियंत्रण रेखा पार करने का इंतज़ार करे या फिर कुछ और सर्जिकल स्ट्राइक कर लांचपैट पर ही आतंकवादियों को ठिकाने लगा दे. जानकारों के मुताबिक अगर इंटेलिजेंस इनपुट सही हैं तो ज्यादा सटीक और समझदारी भरा रास्ता कुछ और सर्जिकल स्ट्राइक करने का ही होगा. क्यों कि एलओसी के इस पार आतंकवादियों के आ जाने के बाद उन्हें ढूंढना और ठिकाने लगाना ज्यादा मुश्किल काम है. घुसपैठ के दौरान इन आतंकवादियों को रोकना इसलिए मुश्किल है क्योंकि पाकिस्तानी सेना उन्हें कवरफायर देती रहती है.

पिछले सप्‍ताह नियंत्रण रेखा (LoC) पार कर की गई सर्जिकल स्‍ट्राइक में पैरा स्‍पेशल फोर्सेज के करीब 150 जवानों ने पराक्रम दिखाया था। इस सर्जिकल स्‍ट्राइक में पाकिस्‍तानी मिलिट्री द्वारा सुरक्षित सात आतंकी लॉन्‍च पैड्स पर हमला कर भारी मात्रा में नुकसान पहुंचाया गया था। इस ऑपरेशन को कम से कम एक सप्‍ताह पहले ही प्‍लान कर लिया गया था। कमांडोज ने पूरे ऑपरेशन को इतनी सफाई से अंजाम दिया कि कोई भी भारतीय जवान हताहत नहीं हुआ।

पिछले दो दिन से सर्जिकल स्‍ट्राइक को लेकर राजनेताओं के बयानों में ‘संदेह’ देखने को मिल रहा है। पहले दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री और आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को वीडियो जारी कर प्रधानमंत्री से पाकिस्‍तान के ‘प्रोपेगेंडा’ का जवाब देने को कहा। सके बाद कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने ट्वीट कर कहा, ”प्रत्‍येक भारतीय पाकिस्‍तान के खिलाफ सर्जिकल स्‍ट्राइक्‍स चाहता है लेकिन भाजपा द्वारा राजनीतिक फायदे के लिए फर्जी वाली नहीं। देश के हितों पर राजनीति।”

अगर सरकार कुछ और सर्जिकल स्ट्राइक करती है तो फिर इस तरह के सवाल खुद ही खत्म हो जाएंगे और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत पर सवाल उठाने वालों के मुंह बंद हो जाएंगे. पाकिस्तान भी बार बार हमले की बात नकार रहा है. उसके बाद उसकी हालत और खराब हो जाएगी वो सह भी नहीं पाएगा और कह भी नहीं पाएगा.