एक झटके में उधार निकलवाने का हुनर आता है मंजू को, एक रिसेप्शनिस्ट जो 500 करोड़ करवा चुकी है वसूल…

एक झटके में उधार निकलवाने का हुनर आता है मंजू को, एक रिसेप्शनिस्ट जो 500 करोड़ करवा चुकी है वसूल…




लोन रिकवरी का काम हमेशा से ही गुंडागर्दी द्वारा किया जाने वाला काम माना जाता है और समाज द्वारा इस काम को करने वालों को अच्छी नजरों से नहीं देखा जाता है। लेकिन इंदौर की रहने वाली 26 वर्षीय मंजू भाटिया ने आमजन की धारणा को न केवल बदला है बल्कि वर्तमान में वे लोन रिकवरी करने वाली देश की बड़ी एजेंसी ‘‘वसूली’’ की ज्वाइंट मैनेजिंग डायरेक्टर हैं। वह मानती हैं कि हर महिला को अपने जीवन को महत्व देते हुए पुरुषों से आगे रहकर काम करना चाहिये।

इंदौर के एक व्यवसाई परिवार में जन्मी मंजू ने 2003 में इंटर की परीक्षा देने बाद ही एक स्थानीय औषधीय कंपनी तूलिका इंटरनेश्नल में रिसेप्शनिस्ट की नौकरी करके अपने करियर की शुरुआत की। ‘‘इंटर की पढ़ाई करते समय ही मैं जीवन में कुछ करना चाहती थी। मैं शुरू से ही सिर्फ किसी की बेटी या पत्नी बनकर नहीं रहना चाहती थी।’’

मंजू ने रिसेप्शनिस्ट की नौकरी करने के साथ ही अपनी स्नातक की पढ़ाई भी पूरी की और अपने काम के प्रति लगन और मेहनत के चलते जल्द ही वे कंपनी के अन्य कामों में भी हाथ बंटाने लगीं। कंपनी के मालिक पराग शाह, जो उनके पारिवारिक मित्र भी थे नें उन्हें कंपनी के एकाउंट्स और माल के खरीद-फरोख्त को देखने का काम भी सौंप दिया।

 

इसी बीच मंजू के सामने एक आॅफर आया जिसने उनकी जिंदगी ही बदल दी। पराग शाह की दवाओं की कंपनी के अलावा बैंकों के लिये लोन रिकवरी का काम करने की भी एक छोटी से कंपनी ‘‘वसूली’’ भी थी जिसके पास सिर्फ एक ग्राहक ‘स्टेट बैंक आॅफ इंडिया’ था।

‘‘एक दिन पराग शाह ने मुझे वसूली के कामों में हाथ बंटाने को कहा। कंपनी के कामों के बाद भी मेरे पास काफी समय था और मैं भी कुछ नया करना चाहती थी। इसलिये मैंने बिना कुछ सोचे हाँ कर दी।’’

वसूली के साथ अपने पहले अनुभव के बारे में बताते हुए मंजू कहती हैं कि एसबीआई प्रतिमाह उन लोगों को लोन की किश्तें अदा न करने वाले लोगों की एक लिस्ट दे देता था। उनके पास आई लिस्ट में राज्य के एक प्रसिद्ध राजनेता का नाम भी था। ‘‘पराग ने उस नेता से वसूली का जिम्मा मुझे सौंपा मैंने बिना लोन का जिक्र करे उनसे मिलने का समय ले लिया।’’

मंजू आगे जोड़ती हैं कि नौकरी के समय मिले अनुभव के आधार पर उन्हें अंदाजा था कि अक्सर लोग किश्त चुकाने की आखिरी तारीख को भूल जाते हैं। कई बार लोग किसी मजबूरीवश कुछ किश्तों को जमा नहीं कर पाते हैं और बैंक ऐसे में उन लोगों को नाॅन परफार्मिंग ऐसेट (एनपीए) मान लेते हैं और वसूली का काम रिकवरी एजेंटों को सौंप देते हैं।

कुछ ऐसा ही किस्सा उस राजनेता का भी था। मंजू ने जब उनसे मिलकर लोन के बारे में बताया तो उन्होंने अगले ही दिन बैंक का बचा हुआ पैसा चुका दिया और यहीं से मंजू की जिंदगी ने एक यू-टर्न लिया।

 

 

मुंबई में आने के बाद के दिनों को याद करते हुए मंजू भावुक हो उठती हैं। वे बताती हैं कि, ‘‘प्रारंभ में हमें एक बैंक के डीजीएम ने परखने के लिये सिर्फ 2 खातेदारों से वसूली की जिम्मेदारी दी ओर आज की तारीख में हम उसी बैंक के दो लाख से अधिक मामलों को निबटा रहे हैं। इसके अलावा पूरे देश में हमारी 26 शाखाएं हैं जिनमें 250 महिलाएं एजेंट के रूप में काम कर रही हैं। ’’

मंजू आगे बताती हैं कि वर्तमान में उनकी कंपनी में काम करने वालों में सिर्फ 2 पुरुषों, एक तो जीएम पराग शाह और दूसरे उनके पिता, को छोड़कर सभी महिलाएं हैं। वसूली में शाखा प्रमुख के पद पर उस महिला को नियुक्त किया जाता है जिसने पूर्व में इंदौर या मुंबई के आफिस के बेहतरीन प्रदर्शन किया हो। वसूली को बैंक का पैसा डिफाल्टर से वापस मिलने के बाद कमीशन मिलता है। वर्ष 2011-2012 में कंपनी ने लगभग 500 करोड़ रुपयों के मामले निबटाए जिनमें कमीशन के तौर पर इन्हें करीब 10 करोड़ रुपये मिले।

भविष्य की योजनाओं के बारे में बताते हुए मंजू कहती हैं कि जल्द ही ‘‘वसूली’’ को रिकवरी एजेंसी से बदलकर ‘संपत्ति पुनर्निमाण’ कंपनी बनाने का इरादा है। इसके अलावा वे कानून में डाॅक्टरेट करने की योजना भी बना रही हैं।

अंत में मंजू कहती हैं कि, ‘‘रिकवरी का काम बेहद मुश्किल काम है। अगर आप एक बच्चे से भी उसकी कोई चीज छीनने का प्रयास करें तो वह भी आपका प्रतिरोध करेगा। यहां तो आपको डिफाॅल्टरों के वाहनों के अलावा कईयों के मकान-दुकान पर भी कब्जा करके उन्हें छीनना पड़ा है। लेकिन किसी भी काम में किया गया ईमानदार प्रयास कभी व्यर्थ नहीं जाता और यही प्रयास आपको सफल बनाता है।’’

courtsey- yourstory.com