‘RSS ने भारत छोड़ो आंदोलन को विफल करने की कोशिश की’अंग्रेज़ों का साथ दिया

जनसंघ (जो अब भाजपा है) के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी, संघ परिवार और वीर सावरकर अंग्रेजों के सहयोगी थे।’ कांग्रेस पार्टी ने ये दावा किया है. पार्टी को प्रवक्ता आनंद शर्मा ने  दावा किया है कि मुखर्जी ने बंगाल के तत्कालीन गवर्नर को इस बारे में पत्र लिखा था और बताया था कि भारत छोड़ो आंदोलन का मुकाबला कैसे किया जाए.


उन्होंने कहा कि संघ ने भारत छोड़ो आंदोलन में शामिल नहीं होने का फैसला किया और आदेश जारी किया कि संघ का कोई सदस्य इसमें भाग नहीं लेगा।

शर्मा के अनुसार मुखर्जी द्वारा बंगाल के ब्रिटिश गवर्नर को लिखे पत्र में यह उल्लेख है। उन्होंने कहा कि भाजपा और प्रधानमंत्री ने सरदार पटेल को अपना बनाने की कोशिश की। कांग्रेस प्रवक्ता ने साथ ही यह भी कहा कि संघ को लेकर पटेल की राय का पता भारत सरकार की एक सरकारी विज्ञप्ति से चलता है जिसने संघ और हिंदू महासभा पर प्रतिबंध लगाया था। शर्मा ने कहा, ‘मोदीजी को याद रखना चाहिए कि भारत की आजादी के बाद उनके साथी और उनकी पार्टी भारत की आजादी, भारत के संविधान, भारत के लोकतंत्र के प्रत्यक्ष लाभार्थी हैं जिसने उन्हें, उनके साथियों, उनकी पार्टी को सशक्त किया।

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें