पतंजलि के बाद अब ‘आस्था’ के नाम पर पैसे बनाएंग बाबा रामदेव

पतंजलि के बाद अब ‘आस्था’ के नाम पर पैसे बनाएंग बाबा रामदेव

नई दिल्ली: एफएमसीजी सेक्टर में जबर्दस्त सफलता हासिल करने के बाद अब बाबा रामदेव दीया, बाती और धूपबत्ती यानी पूजा सामग्री के कारोबार पर भी अपना परचम लहराना चाहते हैं. इसके लिए पतंजलि ने ऐलान किया है कि ‘योग गुरू’ बाबा रामदेव अब आस्था के बाजार में उतरने को तैयार हैं. कुछ ही दिनों में ‘पतंजलि आस्था’ के नाम से लॉन्च होने जा रहे इस सेगमेट में पूजा सामग्री जैसे अगरबत्ती, धूपबत्ती, दीपक, सामग्री वगैरह का उत्पादन किया जाएगा और प्रोडेक्ट बेचे जाएंगे. बाबा रामदेव जो योग गुरू के नाम से मशहूर हैं उनकी पतंजलि कंपनी ने अभी तक आयुर्वेद की दवाईयों के अलावा घरेलू उपयोगी सामग्री भी बनाकर बाजारों में स्वदेशी उत्पाद के रूप में खासी लोकप्रियता प्राप्त कर ली है. अब बाबा की कंपनी ने पूजा पाठ में उपयोगी सामग्री को भी बनाने का फैसला किया है.

‘पंतजलि आस्था’ के बारे में पतंजलि के प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए कहा है कि 135 करोड़ लोगों में से पतंजलि आस्था का लक्ष्य 100 करोड़ लोगों को प्राकृतिक पूजन सामग्री के उपत्पाद पहुंचाना है. इस समय बाजार में केमिकल युक्त पूजन सामग्री बिक रही है जो स्वास्थ्य और पर्यावरण दोनों के लिए खतरनाक है. लिहाजा पतंजलि ब्रांड के तहत दीवाली के पहले मार्केट में 100 से ज्यादा हर्बल प्रोडक्ट लाए जाएंगे. पतंजलि आस्था के उत्पाद पूरी तरह केमिकल रहित होंगे. पतंजलि आयुर्वेद के मैनेजिंग डायरेक्टर आचार्य बालकृष्ण ने कहा, ‘हम एक नया ब्रैंड आस्था तैयार कर रहे हैं. रिसर्च से पता चला है कि कई जमी-जमाई कंपनियां अगरबत्ती, धूप जैसे उत्पादों में कैमिकल का इस्तेमाल कर रही हैं, जिससे ग्राहकों को नुकसान हो रहा है. इस सेगमेंट में प्राकृतिक उत्पाद की जरूरत है जिसे पतंजलि आस्था पूरी करेगी.

इनमें पूजा में इस्तेमाल होने वाले सभी तरह के प्रोडक्ट मसलन अगरबत्ती, धूप बत्ती, चंदन, तिलक, हवन सामग्री, दीया, थाली आदि शामिल होंगे. पतंजलि की अगरबत्ती और हवन सामग्री पहले से मार्केट में आ चुकी है. ये प्रोडक्ट अगले 2 महीनों यानी दीवाली तक बाजार में आएंगे. इतना ही नहीं आस्था के जरिए पतंजलि की छोटी जगहों पर रोजगार के अवसर पैदा करने की भी योजना है. पूजा-पाठ प्रोडक्ट के जरिए रामदेव की 5 करोड़ लोगों को रोजगार देने की योजना है. इसके लिए दीवाली से पहले पतंजलि 1500 डीलरों से समझौता कर सकती है और इसकी पहुंच 3 लाख से ज्यादा स्टोर्स तक हो जाएगी. कंपनी ने अपने रिटेल आउटलेट के जरिये पूरे देश में अपना नेटवर्क खड़ा कर दिया है. फ़िलहाल 5 हजार करोड़ के वार्षिक टर्नओवर वाले इस पतंजलि आयुर्वेदिक ने धार्मिक आस्था को भुनाने की तैयारी शुरू कर दी है