दाना मांझी की हालत देखकर बहरीन के प्रधानमंत्री ने सहायता भेजी, भारत के लिए शर्म की बाद,

दाना मांझी की हालत देखकर बहरीन के प्रधानमंत्री ने सहायता भेजी, भारत के लिए शर्म की बाद,




ओड़िशा में अपनी मृत पत्नी को कंधे पर रखकर 12 किमी तक ले जाने वाले दाना मांझी के बारे में सुन भारतीय निवासी ही नहीं, बल्कि बहरीन के प्रधानमंत्री तक दुखी हैं. इतना ही नहीं बहरीन के प्रधानमंत्री प्रिंस खलीफा बिन सलमान अल खलीफा ने पीड़ित परिवार को वित्तीय सहायता देने की घोषणा तक कर दी. गल्फ डेली न्यूज (GDN) के मुताबिक, “प्रधानमंत्री प्रिंस खलीफा बिन सलमान अल खलीफा ने उस शख्स के बारे में पढ़ा, जो अस्पताल में पत्नी को मौत हो जाने के बाद एंबुलेंस ना मिलने पर शव को कंधे पर रखकर 12 किमी तक ले गया.”

गल्फ डेली न्यूज (GDN) के मुताबिक, बहरीन के प्रधानमंत्री करेंगे पीड़ित परिवार को वित्तीय सहायता. (Photo: Gulf Daily News)

 

इसके मुताबिक, “गल्फ डेली न्यूज ने पाया कि प्रधानमंत्री इस खबर को जानकर काफी मायूस थे और परिवार की मदद करना चाहते थे. इसलिए उन्होंने तुंरत इस दाना मांझी के परिवार को वित्तीय मदद का फैसला लिया. प्रधानमंत्री कार्यालय ने बहरीन के भारतीय दूतावास को संपर्क किया और उस शख्स की आर्थिक मदद का निर्णय लिया.” हालांकि मीडिया रिपोर्ट में यह नहीं बताया गया कि यह रकम कितनी है और कब दी जाएगी. बता दें कि एक बहरीन दीनार 178 भारतीय रुपए के बराबर होता है.

गौरतलब है कि ओड़िशा के कालाहांडी जिले में रहने वाले आदिवासी दाना मांझी की 42 वर्षीय पत्नी को टीबी था और उनको इलाज के लिए भवानीपटना के जिला अस्पताल लाया गया था जहां उनकी मृत्यु हो गयी थी. दाना मांझी को मृत पत्नी को ले जाने के लिए एंबुलेंस नहीं मिली थी, जिसके बाद दाना ने पत्नी के शव को चटाई और चादर में लपेटा और कंधे पर लेकर 12 साल की बेटी के साथ गांव की ओर चल पड़ा. पत्नी को कंधे पर ले जाते मांझी की तस्वीर और वीडियो मीडिया में आने के बाद इस मामले पर काफी विवाद हुआ.