चुनाव ने बदल दिए सुर,  मोदी बोले-गोरक्षा के नाम पर चल रही हैं दुकानें 

चुनाव ने बदल दिए सुर,  मोदी बोले-गोरक्षा के नाम पर चल रही हैं दुकानें 

यूपी चुनाव के नज़दीक आते ही प्रधानमंत्री और संघ परिवार की प्रकृति सेक्युलर जैसी होने लगी है. दलित वोटों का मोह कहें या कुछ और प्रधानमंत्री मोदी ने गौरक्षा पर कड़ी टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि आजकल गौरक्षा के नाम पर कुछ लोगों ने अपनी दुकानें खोल रखी हैं। दिखाने को गौरक्षा करते हैं और काम कुछ और है। सरकार ऐसे लोगों का डोजियर तैयार करेगी। सच्चे गौरक्षक उसकी देखभाल करते हैं। उसकी वजह से फसाद नहीं करते। उन्होंने अपना एक अनुभव भी साझा किया। (संपादक की टिप्पणी – अब तक गुजरात और हरियाणा में सरकार ने कितने ऐसे फसादी गोरक्षक पकड़े?)  मोदी ने कहा कि कत्ल किए जाने से ज्यादा गाय पॉलीथीन खाने से मरती हैं.

दिल्ली के इंदिरा गांधी इनडोर स्टेडियम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी टाउन हाल के दौरान ये बयान दे रहे थे। ऐसा करने वाले वो देश के पहले प्रधानमंत्री हैं। पीएम मोदी जनता से सीधे संवाद कियै। टाउनहाल में एक सवाल के जवाब में पीएम मोदी ने कहा कि भारत की अन्य देशों से कोई जोड़ ही नहीं है। हम विविधता भरे देश हैं। अगर व्यंजन को ही ले लीजिए तो अमेरिका में बिकने वाला पिज्जा और दिल्ली में बिकने वाले पिज्जा का समान स्वाद मिलता है। लेकिन दक्षिण भारत में चले जाइए। हर 10 किमी में इडली का स्वाद बदल जाता है।

मंदिर एक और सवाल के जवाब में मोदी जी ने कहा कि देश में लोकतंत्र का सबसे सरल मतलब यह माना जाता है कि एकबार वोट दे दिया और अब सरकार जाने। यह एक तरह से वोट देकर किसी को कांट्रैक्ट देने जैसा है। एकबार इस पार्टी को दिया। काम नहीं हुआ तो अगली बार किसी और पार्टी को। ऐसे लोकतंत्र मजबूत नहीं होता। भारत जैसे देश में लोकतंत्र की मजबूती के लिए जनभागीदारी की जरूरत है। लोगों को सवाल करते रहना चाहिए और सरकार की जवाबदेही है उनके जवाब देना।

यह कार्यक्रम मोदी सरकार की महात्वाकांक्षी वेबसाइट माय गॉव के दो साल पूरे होने पर आयोजित किया गया है।