मनरेगा से पेट पाल रहा है उस बड़े नेता का परिवार, कांग्रेसी भूल अपने नेता को

ईमानदारी की हद होती है. हो सकता है कि आप कहें कि ऐसी ईमानदारी किस काम की. आप ऐसा इसलिए कहेंगे क्योंकि इस ईमानदारी का ये हश्र दर्दनाक है.  खबर ये है कि बिहार का तीन बार मुख्यमंत्री रहे शख्स का परिवार भुखमरी के हाल में है और उसके बच्चे मनरेगा में मजदूरी करके गुजारा करने को मजदूर हैं.

तीन बार रह चुके हैं बिहार के मुख्यमंत्री

भोला पासवान शास्त्री बिहार में कांग्रेस के कद्दावर नेता थे. उन्हें तीन बार बिहार में मुख्यमंत्री बनने का मौका मिला. पहली बार वो 22 मार्च 1968 को 100 दिनों के लिए मुख्यमंत्री बने थे. दूसरी बार उन्हे 22 जून 1969 में दोबार से बिहार की सत्ता हासिल हुई लेकिन इस बार उनकी सरकार ही चली. आखिरी बार वे 2 जून 1971 को मुख्यमंत्री पद पर काबिज हुए और इस बार 222 दिनों तक उन्होंने बिहार में सरकार चलाई.

श्राद्ध के लिए भी नहीं था पैसा

भोला पासवान शास्त्री जी की जब मौत हुई तो उनके खाते में इतना भी पैसा नहीं था कि उनका श्राद्ध क्रम हो सके. लोगों को ये देख हैरानी हुई की जो तीन बार बिहार का मुख्यमंत्री रहा. जिसे इंदिरा गांधी ने दो बार केंद्र में मंत्री बनाया तो उनके पास इतने भी पैसे नहीं है कि उनका अंतिन संस्कार हो सके.

गरीबी में है परिवार

भोला पासवान शास्त्री का परिवार पूर्णिया जिले के काझा कोठी के पास बैरगाछी गांव में रहता है. शास्त्री जी के परिवार में अब 12 कुनबे हो चुके हैं. पूरे परिवार के पास महज 6 डिसमील जमीन है. परिवार की दरियादिली देखिए की उन्होंने सामुहिक भवन बनाने के लिए सरकार को अपनी जमीन मुफ्त में दे दी है. आफ को जान कर हैरानी होगी की शास्त्री जी का परिवार मनरेगा में मजदूरी करता है.

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें