इस्लाम हिंसक नहीं, सामाजिक अन्याय से फैलती है हिंसा- पोप 

​ईसाई धर्मगुरु पोप फ्रांसिस ने दुनिया के सभी धर्मों के घृणा फैलाने वालों को करारा संदेश दिया है. उन्होंने कहा कि धर्म हिंसक नहीं होता लोगों के हालात हिंसक बनाते बैं. उन्होंने कहा  कि हिंसा के साथ इस्लाम को जोड़ना गलत है. सामाजिक अन्याय और गैर बरावरी तथा पैसे की लालच आतंकवाद का प्रमुख कारण है।

26 जुलाई को फ्रांस के एक चर्च में आतंकी हमले के दौरान बुजुर्ग पादरी की गला काटने वाली घटना के संदर्भ में बोल रहे थे। आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी। 

फ्रांसिस ने कहा,’ मुझे लगता है कि धर्म के साथ आतंकवाद की पहचान करना गलत है। सभी धर्मों में कुछ शरारती समूह होते हैं। मैं इस्लामिक हिंसा के ऊपर बात नहीं करना चाहता क्योंकि रोजाना जब मैं अखबार पढ़ता हूं तो देखता हूं कि इटली में कोई अपनी प्रमेका की हत्या कर रहा है तो कोई अपनी सास की हत्या कर रहा है। ये सब तो चर्च जाने वाले ईसाई हैं. यदि मैं इस्लामिक हिंसा की बात करते हैं तो कऐथोलिक हिंसा की भी बात करनी होगी। सभी मुस्लिम हिंसक नहीं होते।’ 

उन्होंने कहा कि आतंकवाद के कई कारण है। धर्मगुरु ने कहा,’ मुझे पता है यह कहना थोड़ा कठिन होगा लेकिन आतंकवाद तभी पनपता है जब उनके पास पैसा कमाने का और कोई विकल्प नहीं बचता। यह आतंकवाद का पहला रूप है और यह सभी मानवता के खिलाफ है। हमें इस पर बात करना होगा।’ 

उन्होंने कहा कि आर्थिक विकल्पों के अभाव के कारण हमें यह सब देखने को मिलता है।

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें