सुलगते कश्मीर में वो कर रहे हैं हिंदुओं की मदद, कश्मीर में भाईचारे की दास्तान

 कश्मीर में हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद भड़की हिंसा में अब तक 30 लोगों की जान जा चुकी है. श्रीनगर समेत कई जिलों में कर्फ्यू लगा हुआ है. लेकिन इसी तनावपूर्ण माहौल के बीच जो तस्वीर सामने आती है, वो सुकून देने वाली होती है. कश्मीरी मुस्लिम महिला और उनके पति कर्फ्यू में बाहर निकलकर एक पंडित परिवार तक खाना पहुंचाते हैं.zubeda-mos_146829185455_650x425_071216082124

कर्फ्यू की परवाह किए बगैर सहायता

जुबेदा बेगम इस हालात में मनावता का साथ नहीं छोड़ती हैं और कर्फ्यू की चिंता किए बिना अपने पति के साथ मिलकर एक पंडित परिवार तक खाना पहुंचाती हैं. जुबेदा और उनके पति श्रीनगर की सुनसान सड़कों पर खाने का सामान लेकर अपने पंडित दोस्त के घर तक जाते हैं.

zubeda_146829182152_650x425_071216084903

 

पंडित परिवार ने फोन कर मांगी मदद

जुबेदा और उनके पति अपनी जान को खतरे में डालकर उस पंडित परिवार तक पहुंचते हैं, जिन्होंने फोन कर इन्हें अपनी दुर्दशा बताई. जुबेदा ने कहा कि उसने मुझे सुबह फोन किया और कहा कि उनके परिवार को खाने की जरुरत है. उनके साथ उनकी बीमार दादी भी है. मैं उनके लिए खाना ले जा रही हूं. ये मुश्किल है, लेकिन हम कोशिश कर रहे हैं.

जोखिम भरे सफर के बाद ये मुस्लिम जोड़ा दीवानचंद के घर पहुंचता है. दीवानचंद ने कहा, ‘यहां सब लोग पीड़ित हैं. ऐसे मैं इनका यहां आना इंसानियत है. मैं इनका शुक्रगुजार हूं. दीवानचंद अपने परिवार के साथ यहां कई सालों से रह रहे हैं. वे यहां ऑल इंडिया रेडियो में काम करते हैं. उनकी पत्नी यहां के एक स्थानीय स्कूल में शिक्षक हैं, जहां जुबेदा भी काम करती हैं.

 courtsey Ajtak

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें