मोदी अंबानी का बिचौलिया, भ्रष्ट पीएम, देशद्रोह में जेल भेजो-राहुल

राफेल घोटाले में पीएम राहुल गांधी ने सीधे पीएम मोदी पर अटैक कर दिया है. राहुल गांधी ने आरोप लगाया और कहा कि प्रधानमंत्री मोदी एक भ्रष्ट प्रधानमंत्री हैं. वो अनिल अंबानी के बिचौलिया की तरह काम कर रहे है और उनके खिलाफ देश द्रोह का मुकदमा चलाकर उन्हें जेल भेजना चाहिए.

मंगलवार को नई दिल्ली में आयोजित एक प्रेस-कॉन्फ्रेंस में राहुल गांधी ने एक ई-मेल जारी किया और आरोप लगाए कि अनिल अंबानी को सौदे से संबंधित जानकारियां इसके अंतिमरूप दिए जाने से 10 दिन पहले ही पता चल गई थीं. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अनिल अंबानी के लिए ‘मिडिलॉ मैन’ का काम कर रहे थे. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने गोपनीयता की शर्तों का उल्लंघन किया है लिहाजा यह देशद्रोह है और उनके खिलाफ मुकदमा चलाया जाना चाहिए तथा जेल भेजना चाहिए.

ई-मेल का जिक्र करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि अनिल अंबानी ने फ्रांस के रक्षा मंत्री को रफाल विमान सौदे की जानकारी दी. मतलब उन्हें डील के बारे में पहले से पता था. जबकि, इसके बारे में भारत के रक्षा मंत्री, एचएएल और विदेश सचिव को भी जानकारी नहीं थी.

कांग्रेस अध्यक्ष ने रफाल सौदे पर सीएजी (नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक) की रिपोर्ट को लेकर भी पीएम मोदी पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि यह सीएजी नहीं बल्कि ‘चौकीदार ऑडिटर जनरल’ रिपोर्ट है. प्रधानमंत्री सब जानते थे और उन्होंने अनिल अंबानी की मदद की. इसलिए किसी को कोई शक नहीं है कि वह भ्रष्ट हैं. राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने डिफेंस सीक्रेट को लेकर देश की सुरक्षा के साथ समझौता किया. उन्होंने पूछा, जिस डील के बारे में न तो रक्षा मंत्री को पता था और न ही दूसरे अधिकारियों को, ऐसे में इसकी जानकारी अनिल अंबानी को कैसे हो गई? राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री विपक्षी नेताओं की भी जांच कराएं लेकिन रफाल की भी जांच कराएं. उन्होंने मामले में जेपीसी गठित करने की मांग उठाई.

राहुल गांधी के राफेल को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लगाए  आरोपों पर कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने करारा जवाब दिया है और कहा है कि राहुल गांधी के जो आरोप है वह गैर जिम्मेवाराना और बेशर्मी की प्रकाष्ठा है. राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देशद्रोही कहा है वह झूठ की मशीन है इससे ज्यादा अपेक्षा राहुल गांधी से नहीं की जा सकती थी रविशंकर प्रसाद का कहना है कि राहुल गांधी का पूरा खानदान समय-समय पर देश को लूटता रहा है जमीन घोटाले और शेयर लूट के आरोप में मां बेटा बेल पर हैं. उनका बहनोई रॉबर्ट वाड्रा अपनी मां के साथ जांच के घेरे में है. उल्टा हमारे प्रधानमंत्री ईमानदार प्रधानमंत्री पर आरोप लगाते हैं इनको शर्म आनी चाहिए.

रविशंकर प्रसाद का कहना है कि राहुल गांधी ने एअरबस के ईमेल कोर्ट किया है वह राफेल के बारे में नहीं था. रविशंकर प्रसाद ने सवाल पूछा है कि राहुल गांधी को एअरबस का यह इंटरनल ईमेल कैसे मिला. राहुल गांधी और उनकी पार्टी जब सत्ता में थे तो उन्होंने सत्ता का दुरुपयोग कर पैसे कमाए और अब भारत की सुरक्षा से खिलवाड़ कर विदेशी कंपनियों के लोबिस्ट के रूप में काम कर रहा है .

रविशंकर प्रसाद का कहना है कि जब यूपीए की सरकार थी तो पूरी कैबिनेट के नोट मिशेल मामा के पास कैसे पहुंच जाया करते थे .इसके लिए जांच हो रही है.  राहुल गांधी विदेशी कंपनियों के लोवेस्ट के रूप में काम कर रहे हैं. हमने आपके खानदान को कभी देशद्रोही नहीं कहा .आपने अपने चेहरे पर कालिख पौंछी है.

इससे पहले द हिंदू ने एक और दस्तावेज़ जारी किया. इस बार हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक राफेल सौदे (Rafale Deal) में सरकार ने भ्रष्टाचार पर कार्रवाई का क्लॉज हटा दिया. इसके बाद कांग्रेस (Congress) फिर हमलावर हो गई.

क्या राफेल सौदे में सरकार ने फ्रांसीसी पक्ष को बड़ी छूट देते हुए भ्रष्टाचार का क्लॉज हटा दिया है? ‘द हिंदू’ में छपी ताज़ा रिपोर्ट के मुताबिक भ्रष्टाचार से लड़ने का दावा करने वाली सरकार ने ये काम किया है.

रिपोर्ट के मुताबिक सौदे पर दस्तखत से कुछ ही दिन पहले भारत सरकार ने फ्रांसीसी पक्ष को बड़ी रियायत दी. सप्लाई प्रोटोकॉल से कई प्रावधान हटा दिए. इनमें भ्रष्टाचार विरोधी पेनाल्टी के प्रावधान भी हटाए गए. अनुचित प्रभाव, एजेंट या एजेंसी के कमीशन पर पेनाल्टी का प्रावधान हटाया गया. कंपनियों के खाते तक पहुंच का प्रावधान भी हटा.

हाल के दिनों में ये तीसरा मौका है जब सरकार को सफाई देने की नौबत आई है. पहले सौदे में पीएमओ की समानांतर बातचीत का इल्ज़ाम आया और इसके बाद एक इल्जाम ये आया कि इसकी जांच कर रहे सीएजी राजीव महर्षि सौदे के समय वित्त सचिव थे. यानी ये हितों के टकराव का केस है. साफ है, राफेल विवाद लगातार सरकार का पीछा कर रहा है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.