डीआईजी माफी मांगता रहा भीड़ पीटती रही, रोड रेज मामले में लहुलुहान हुआ अफसर

रोडरेज बुरी चीज़ है. एक बार हालात बिगड़ जाएं तो नुकसान भारी होता है. हरियाणा में विजिलेंस ब्यूरो के डीआईजी कहते रह गए कि गलती हो गई है. उन्होंने माफी भी मांग ली लेकिन भीड़ ने उन्हें मार मार के फोड़ दिया. डीआईजी का नाम हेमंत कल्सन है और घटना हरियाणा के पिंजौर के नजदीक 23 सितंबर की बताई जा रही है.

 

मामला प्रकाश में तब आया जब इस घटना से जुड़े तीन वीडियो क्लिप पिछले दो दिनों से वायरल होने लगे. इस मामले में किसी तरह की प्राथमिकी दर्ज नहीं करवाई गई थी. पिंजौर थाने एक डीडीआर दर्ज करवाया गया था, जिसमें बताया गया है कि डीआईजी कल्सन और एक आदमी को स्थानीय लोगों से बहस के दौरान एक किसान, जो समझौता करवाने आया था, ने थप्पड़ मारे थे. घटना के बाद डीआईजी कल्सन ने खुद का मेडिकल जांच और एक्स-रे करवाया था, जिसमें बताया गया कि उनके सिर, चेहरे और दांत में किसी तरह की चोट नहीं आयी.

 

पिंजोर पुलिस थाने के सूत्रों के मुताबिक, समझौता पत्र में उस व्यक्ति के नाम का उल्लेख नहीं किया गया, जिसने उनकी पिटाई की थी. वहीं, वायरल वीडियो क्लिप में डीआईजी कल्सन सादे कपड़े में दिखते हैं, उनके मुंह से खून निकल रहा है और वे हरियाणा पुलिस के डीआईजी के रूप में खुद का परिचय दे रहे हैं. कह रहे हैं, “भाई गलती हो गई. हाथ जोड़ दिए और क्या करूं?” डीआईजी कल्सन जो पंचकूला के सेक्टर 17 में विजिलेंस स्टेशन में पोस्टेड हैं, ने इस घटना की पुष्टि की है.

 

उन्होंने कहा, “यह घटना उस समय हुई जब मैं अपने भाई के घर पिंजौर से पंचकूला सेक्टर 17 आ रहा था. मेरे साथ दोस्त राजेश वशिष्ठ थे और मैं खुद गाड़ी चला रहा था. बाईपास के शुरू में ही एक शराब दुकान है, जहां कई गाडि़यां खड़ी की गई थी. इस दौरान एक स्कार्पियो ड्राईवर ने बेतरतीब ढ़ंग से गाड़ी चलाते हुए मुझे ओवरटेक किया. मैंने कुछ दूर तक उसका पीछा किया. पीसीआर को बुलाया और ड्राईवर को उनके हाथों में सौंप कड़ी कार्रवाई करने की मांग की. मैंने ड्राईवर को तीन-चार थप्पड़ भी मारे. अचानक शराब दुकान के बाहर खड़ी भीड़ वहां आ पहुंची और मेरे साथ दुर्व्यवहार किया. मैंने उनसे हिंसा न करने का आग्रह किया.”

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.