बदतमीज़ और कन्फ्यूज़ड इनसान हैं केजरीवाल – अलका लांबा

आम आदमी पार्टी (आप) विधायक अलका लांबा ने शनिवार को सीधे सीधे अरविंद केजरीवाल के बारे में वो कहा जो अब तक दूसरी पार्टी कहा करती थीं. अलका लांबा ने कहा कि केजरीवाल बदतमीज़ इनसान हैं और कन्फ्यूज़ड हैं.. इसके लिए हिंदी का शब्द अभद्र  और भ्रमित इस्तेमाल करते हुए अल्का लांबा ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पार्टी की बैठक में विधायकों के खिलाफ अभद्र भाषा में बात करते हैं. लांबा ने केजरीवाल को भ्रमित नेता तक करार दिया. उधर पार्टी की तरफ से ट्वीट करते हुए सौरभ भारद्वाज ने कहा कि अल्का लांबा कब की कांग्रेस में चली जातीं लेकिन एमएलए की कुर्सी छोड़ी नहीं जा रही.

अलका लांबा ने शनिवार को मीडिया से बात करते हुए अरविंद केजरीवाल व आप के शीर्ष नेतृत्व पर हमला बोला. लांबा के मुताबिक, बैठक में कई बार विधायकों को केजरीवाल आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल करते हैं. एक बार तो वरिष्ठ विधायक के लिए अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने पर विधायक की आंखों में आंसू आ गए थे और उन्होंने इस्तीफा तक दे दिया था. लेकिन बाद में उन्हें मनाया गया था. अलका लांबा ने कहा कि वह आप में ज्यादा वक्त नहीं बिता सकती. उनको कांग्रेस से निमंत्रण मिलने का इंतजार है.

कांग्रेस में जाने की बात से भी अल्का लांबा ने भी इससे इनकार नहीं किया. उन्होंने शुक्रवार को कहा था कि वह कांग्रेस में जाने को तैयार हैं. हालांकि, उन्होंने यह भी साफ किया कि अभी उनके पास कांग्रेस की तरफ से इस तरह का कोई प्रस्ताव नहीं आया है. दूसरी तरफ दिल्ली प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको ने भी कहा था कि अगर वह वापस आना चाहती हैं तो कांग्रेस में उनका स्वागत है.
उधर, अलका लांबा के बागी रुख पर आप कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है. सिर्फ आप प्रवक्ता व विधायक ने ट्वीट किया कि अलका लांबा को कांग्रेस में शामिल होने से पहले आप से इस्तीफा देना होगा. इसका सीधा मतलब विधायक की कुर्सी छोडने से है. विधायक का पद 20 साल से कांग्रेस को बचाने के लिए नहीं मिला था. 

आप के एससी/एसटी विंग के प्रदेश अध्यक्ष कर्म सिंह ने अपने पद व पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है. बीते 24 अगस्त को ही कर्म सिंह को यह जिम्मेदारी पार्टी ने दी थी. कर्म सिंह का आरोप है कि आप के भीतर रहकर भ्रष्टाचार के खिलाफ नहीं बोला जा सकता है.