अमेरिका को पहले से ही थी हवाई हमले की जानकारी !

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप एक हफ्ते पहले जानते थे कि भारत पाकिस्तान में घुसकर कोई बड़ी कार्रवाई करेगा. उन्होंने बाकायदा व्हाइट हाऊस में पत्रकारों को बुलाकर कहा था कि पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच खतरनाक हालात बन गए हैं.

ट्रंप ने ओवल ऑफिस में संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने कहा कि भारत ने इस हमले में करीब 50 जवानों को खोया है और वह बहुत सख्त कदम उठाने की सोच रहा है. ट्रंप ने कहा कि उनकी सरकार दोनों देशों के संपर्क में है और उन्हें उम्मीद है कि कश्मीर घाटी में अशांति की स्थिति जल्द ही खत्म होगी.

ट्रंप ने कहा कि बहुत सारे लोगों को मार दिया गया है. हम चाहते हैं कि यह फौरन बंद हो. हम इस प्रक्रिया पर अपनी पैनी नजर बनाए हुए हैं.’

बता दें कि आज सुबह भारत ने पुलवामा हमले के बाद पाकिस्ताान के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. भारत एक के बाद एक ऐसे कदम उठा रहा है जिससे पाकिस्तान लगातार परेशान हो रहा है. भारत ने पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का स्टेटस वापस ले लिया. इसका मतलब होता है कि हम आपके साथ जितना संबंध रखेंगे, उतना किसी और देश के साथ नहीं रखेंगे. विश्वस व्याैपार संगठन (डब्यूजित टीओ) के सदस्य के तौर पर हर देश को एक-दूसरे को मोस्टव फेवर्ड नेशन का दर्जा देना होता है. भारत ने 1996 में पाकिस्ता न को मोस्टह फेवर्ड नेशन का दर्जा दिया था.

पाकिस्तान स्थित आतंकवादी ठिकानों पर हवाई हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुरक्षा मामलों पर बनी कैबिनेट कमेटी (सीसीएस) की बैठक की अध्यक्षता की है. इस बैठक में हवाई हमले और उसके बाद की स्थिति पर चर्चा की गई.
इस बैठक के बाद बाहर निकलते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने थम्स अप का निशान बना कर लोगों की ओर हाथ हिलाया. वह उस वक़्त मुस्करा रहे थे. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने पत्रकारों से कहा, ‘पूरा देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ खड़ा है.’ लेकिन वे सीसीएस में नहीं हैं. सीसीएस की बैठक में प्रधानमंत्री के अलावा रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली, राष्ट्रीय सुरक्षाा सलाहकार अजित डोभाल, रक्षा सचिव और विदेश सचिव मौजूद
थे.
भारतीय वायु सेना के जहाज़ोंं ने नियंत्रण रेखा पार कर पाकिस्तान स्थित आतंकवादी शिविरों पर बम गिराए हैं. इसमें मिराज- 2000 बमबर्षक विमानों का इस्तेमाल किया गया. मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि मंगलवार तड़के क़रीब 3.30 पर भारतीय वायु सेना के जहाज़ों ने नियंत्रण रेखा पार कर पाकिस्तान में चल रहे आतंकवादी शिविरों पर बम गिराए हैं. इन जहाज़ों के निशाने पर जैश-ए-मुहम्मद के आतंकवादी शिविर थे. ख़बर है कि ऐसे कई कैम्प नष्ट कर दिए गए हैं.
इस ऑपरेशन में 12 मिराज़ बम वर्षक विमानों का इस्तेमाल किया गया, इन विमानों ने करीब 1,000k बम इन ठिकानों पर गिराए हैं.
पाक की तैयारी: लड़ाई के लिए पाक सेना ने शुरू कीं तैयारियाँ, कहा, अस्पताल तैयार रखें
पाकिस्तान ने की हमले की पुष्टि
पाकिस्तान सेना ने इस हमले की पुष्टि कर दी है. सेना के वरिष्ठ अफ़सर ने ट्वीट कर कहा कि भारतीय वायु सेना के जहाज़ों ने देश के अंदर घुस कर बम गिराए हैं. मेजर जनरल आसिफ़ गफ़ूर ने दावा किया है कि पाकिस्तानी वायु सेना ने इसका तुरन्त जवाब दिया, जिस वजह से भारतीय जहाज़ बालाकोट के पास बम गिरा जहाज़ लौट आए हैं. कोई नहीं मारा गया है.

पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले के बाद यह अनुमान लगाया जा रहा था कि भारत इस पर कोई कार्रवाई ज़रूर करेगा और किसी न किसी तरह जैश-ए-मुहम्मद के शिविरों को निशाना बनाएगा. पाकिस्तानी ठिकानों पर सर्जिकल स्ट्राइक किए जाने की चर्चा भी की जा रही थी.
बीते हफ़्ते पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने कहा था कि यदि भारत ने उनके देश पर हमला किया तो इस्लामाबाद जवाब देने की सोचेगा नहीं, वह जवाब देगा और माकूल जवाब देगा.
पाक विदेश मंत्री ने जापान यात्रा टाली
पाकिस्तानी अख़बार डॉन ने ख़बर दी है कि हमले की वजह से पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने अपने जापान यात्रा को टाल दिया है.
‘यह तो अपना इलाक़ा है’
बीजेपी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने बमबाज़ी पर प्रतिक्रिया जताते हुए कहा कि बालाकोट का इलाक़ा भारत का ही हिस्सा है, जिस पर पाकिस्तान ने क़ब्जा कर रखा है. अपने ही इलाक़े पर तो हम बम गिरा ही सकते हैं, इसमें बुरा क्या है?

इस बीच पुलवामा हमले के बाद अंतरराष्ट्रीय समुदाय की नाराजगी झेल रहे पाकिस्तान में गहमागहमी बढ़ गई है. इसी के चलते पाकिस्तान ने आतंकवादी संगठनों पर कार्रवाई भी कर दी है तो उसे भारत के एक्श न का भी डर लग रहा है. गुरुवार को हाफिज सईद के संगठनों को बैन करने के बाद शुक्रवार को पाकिस्तानी सरकार ने मसूद अजहर के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद पर नियंत्रण कर लिया. इसी बीच, पाकिस्ताीन सेनाध्यजक्ष जनरल कमर बाजवा ने नियंत्रण रेखा के पास पोस्ट् का दौरा किया.

पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में तल्खी बनी हुई है. इस बीच पिछले कई घंटों से पाकिस्तान लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है. पूरी रात पाकिस्तान की ओर से मोर्टार दागे गए. भारत इसका माकूल जवाब दे रहा है. इस बीच पाकिस्तान ने भारतीय वायु सेना पर नियंत्रण रेखा का उल्लंघन करने का आरोप लगाया. यह आरोप पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने लगाया. हालांकि, पाकिस्तानी सेना के इस आरोप पर भारतीय सेना की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

मेजर जनरल आसिफ गफूर ने मंगलवार तड़के ट्विटर पर लिखा, ‘भारतीय वायु सेना ने नियंत्रण रेखा का उल्लंघन किया. पाकिस्तान वायु सेना ने तुरंत कार्रवाई की. भारतीय विमान वापस चले गए.’ इससे पहले पिछले शुक्रवार को मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा था कि हम जंग के लिए तैयार नहीं हो रहे, लेकिन अगर दूसरी तरफ से युद्ध थोपा जाता है तो हम इसका माकूल जवाब देंगे.

पाकिस्तान की ओर से लगातार किया जा रहा है सीजफायर का उल्लंघन

वहीं, सोमवार और मंगलवार तड़के पाकिस्तान ने राजौरी और पुंछ जिलों में नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया. पाकिस्तानी सेना ने रात के दौरान कई बार हमारी चौकियों पर गोलीबारी की. सेना पाकिस्तान को करारा जवाब दे रही है. पुलवामा आतंकी हमले के दिन यानि 14 फरवरी के बाद से ही हर रोज पाकिस्तान की ओर से LoC पर मोर्टार दागे जा रहे हैं. भारतीय सेना की ओर से पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया जा रहा है.

पीएम मोदी ने दिए थे बड़ी कार्रवाई के संकेत

पुलवामा के बाद पूरा देश पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहा है. बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हमलावरों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई के संकेत भी दिए थे. पीएम मोदी ने साफ कर दिया था कि पाकिस्तान में बैठे आतंकियों खिलाफ सेना ने अपने तय वक्त और जगह पर जवाब देंगी. इसके बाद तीनों सेनाओं के प्रमुखों ने रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण के साथ एक बैठक भी की थी.

पुलवामा हमले से झाड़ा था पल्ला

पुलवामा हमले पर सफाई देते हुए मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा था कि जब भी पाकिस्तान में कुछ भी इंपोर्टेंट होता है तब तब इंडिया कुछ ना कुछ हमारे खिलाफ करता है. पुलवामा में हमले का पाकिस्तान को क्या फायदा है? पाकिस्तान को तो इससे घाटा है. ‘पुलवामा के वाकये को देखें. लाइन ऑफ कंट्रोल पर लेयर ऑफ डिफेंस है. ये कैसे हो सकता है कि कोई शख्स इंफिल्ट्रेट करके मीलों दूर जाकर ऐसा वाकया करे?