पाकिस्तान से लौटे युवक के बयानों से हैरान है इंटेलीजेंस एजेंसियां

पाकिस्तान से लौटे युवक के बयानों से हैरान है इंटेलीजेंस एजेंसियां

वो पाकिस्तान की कैद में था. जब से लौटा है तब से उससे पूछताछ हो रही है. लेकिन वो पूछताछ में जो कह रहा है उससे पुलिस और इंटेलीजेंस के अफसर हैरान परेशान हैं. लड़का दावा कर रहा है कि मुंबई पुलिस के एक ऑफिसर ने उससे बॉर्डर पार जाने के लिए कहा था. इतना ही नहीं, जितेंद्र नाम के इस लड़के ने दावा किया कि इस अधिकारी ने इससे पहले उससे से बॉलिवुड ऐक्टर्स की जासूसी भी करवाई थी.

बता दें कि अर्जुनवार ने साल 2012 में राजस्थान के मूनाबाव इलाके से पाकिस्तान की सीमा में प्रवेश किया था. वह 35 किमी तक पाकिस्तान की सीमा में चला गया और वहां किसी को कोई शक भी नहीं हुआ. हालांकि कुछ देर बाद ही पाकिस्तान की पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था.

अर्जुनवार को इसी साल मार्च में पाकिस्तान ने रिहा कर दिया था और स्वदेश भेज दिया था. अर्जुनवार की रिहाई को लेकर पाकिस्तान में भी बड़ी संख्या में समाजसेवी संगठनों ने प्रदर्शन किए थे. अर्जुनवार जब भारत आया तो उससे इमिग्रेशन के अफसरों ने चंडीगढ़ और दिल्ली में औपचारिक पूछताछ की. पूछताछ में उसने बताया कि उससे मुंबई पुलिस के एक अफसर ने बॉर्डर क्रॉस करने को कहा था. अर्जुनवार के मुताबिक, अफसर ने उसे भरोसा दिलाया था कि पाकिस्तान में उसके लिए सारे इंतजाम कर दिए जाएंगे.

अफसरों का मानना है कि या तो उसके दावे आधे-अधूरे हैं या पूरी तरह मनगढ़ंत हैं. एक अधिकारी ने बताया, ‘वह ना तो उस अधिकारी का नाम बता पाया और ना ही अपनी कहानी के अधूरे लिंक्स को पूरा कर पाया. वह लगातार अपने बयान बदल रहा है.’ दिलचस्प है कि अर्जुनवार ने एक ऐक्ट्रेस का नाम भी लिया और अधिकारियों को बताया कि उस पुलिस अफसर ने मुझसे इस ऐक्ट्रेस की जासूसी करने के लिए कहा था.

पुलिस का अंदाज़ा है कि ‘पाकिस्तान में जेल में रहने के दौरान हो सकता है कि वह इंटेलिजेंस और पुलिस अफसरों के संपर्क में आया हो और उनकी जासूसी की कहानियां सुनी हों. उन्हीं से प्रभावित होकर उसने अपनी भी कहानी तैयार कर ली.’ इमिग्रेशन अफसरों को दिए बयान के बाद उससे कई पुलिस और इंटेलिजेंस के अफसरों ने पूछताछ करनी चाही, मगर वह चुप्पी साधे रहा.

मुंबई में भी रहा अर्जुनवार

अर्जुनवार अनीमिया का पेशंट है और उसे उम्मीद है कि स्थानीय प्रशासन उसकी मदद करेगा. पुलिस ने बताया कि वह सिवनी स्थित अपने घर में ही रहता है और किसी से ज्यादा बातचीत नहीं करता है. पुलिस उसके बारे में जो एक जानकारी पुख्ता तौर पर जुटा पाई वह यह कि अर्जुनवार कुछ समय तक मुंबई में भी रहा. लॉयंस क्लब, YMCA जैसी संस्थाओं ने मिलकर उसका किंग एडवर्ड मेमोरियल अस्पताल में कुछ समय तक इलाज भी कराया.

Leave a Reply