कर्नाटक की मतगणना के बीच देश के लिए दो बुरी खबरें, महंगाई की मार के लिए हो जाइए तैयार

कर्नाटक की मतगणना के बीच देश के लिए दो बुरी खबरें, महंगाई की मार के लिए हो जाइए तैयार

नई दिल्ली : इधर पूरे देश की नज़र कर्नाटक के नतीजों पर है और उधर दो बुरी खबरें हैं. जेत के जश्न के बीच महंगाई बढ़ने से जुड़ी हैं दोनों खबरें.

पहली खबर रुपये की

मंगलवार को रुपया डॉलर के मुकाबले 17 पैसे कमजोर हुआ है. इस कारोबारी हफ्ते के दूसरे दिन रुपया डॉलर के मुकाबले 67.68 के स्तर पर खुला है. हालांकि कुछ देर में ही इसमें गिरावट बढ़ गई और यह गिरावट डेढ़ साल के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गई है. मंगलवार को गिरावट के साथ शुरुआत करने के बाद रुपये में गिरावट बढ़ गई. इस गिरावट के साथ यह एक डॉलर के मुकाबले 67.75 रुपये पर पहुंच गया. यह भाव पिछले डेढ़ साल में सबसे ज्यादा है.
जिस तेजी से रुपये में गिरावट बढ़ रही है. उसकी वजह से देश में भी कई सामान के दाम बढ़ने की आशंका जताई जा रही है. कंज्यूमर ड्यूरेबल फर्म व्हर्लपूल इंडिया और गोदरेज एप्लाइंसेज पहले ही कह चुकी हैं कि इसकी वजह से टीवी, फ्रिज और एसी जैसे कंज्यूमर ड्यूरेबल की कीमतें बढ़ सकती हैं. भारत में ज्यादातर चीज़ें विदेशों से आती हैं या चीन से आए सामान से बनाई जाती है. अब ये सब सामान विदेशों से महंगे दाम पर आएगा. मतलब ये कि सब कुछ महंगा हो जाएगा. यहां तक कि कच्चा तेल भी महंगा मिलेगा.

दूसरी खबर तेल की

पेट्रोलियम कंपनियों ने पेट्रोल के दाम दो दिन में करीब 25 पैसे लिटर बढ़ गया है. ये बढ़ोतरी पिछले पांच साल की सबसे ज्यादा है. कर्नाटक में मतदान खत्म होने के बाद ही कल एक झटके से 17 पैसे की बढ़ोतरी हुई थी. इस बढ़ोतरी के साथ पेट्रोल और डीजल की कीमतें रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई हैं. इंडियन ऑयल कंपनी (IOCL) के मुताबिक मंगलवार को दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल के लिए आपको 74.95 रुपये चुकाने पड़ रहे हैं. वहीं, डीजल की बात करें, तो यह 56 महीने के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच चुका है. यहां एक लीटर डीजल के लिए 66.36 रुपये चुकाने पड़ रहे हैं.

डीजल की बात करें, तो इसने 72 रुपये का आंकड़ा पार कर लिया है. केरल के त्रिकवेंद्रम में एक लीटर डीजल आज 72.05 रुपये में मिल रहा है. दिल्ली के बाद मुंबई की बात करें, तो यहां एक लीटर पेट्रोल के लिए 82.79 रुपये चुकाने पड़ रहे हैं. डीजल के लिए 70.66 रुपये प्रति लीटर यहां देने पड़ रहे हैं.

दिल्ली, मुंबई के अलावा अन्य मेट्रो शहरों की बात करें, तो कोलकाता में एक लीटर पेट्रोल के लिए 77.65 रुपये और चेन्नई में 77.77 रुपये प्रति लीटर चुकाने पड़ रहे हैं.

डीजल की बात करें, तो कोलकाता में एक लीटर डीजल 68.90 रुपये प्रति लीटर हो गया है. चेन्नई में 70.02 रुपये प्रति लीटर देने पड़ रहे हैं.

दरअसल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में लगातार इजाफा होता जा रहा है. कच्चा तेल 75 डॉलर का आंकड़ा पार कर चुका है. यह 2014 के बाद अपने सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच चुका है. इसका सीधा असर देश में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों के तौर पर देखने को मिल रहा है.

बता दें कि कर्नाटक चुनाव के चलते 24 अप्रैल के बाद से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में किसी भी तरह का बदलाव नहीं किया गया था. हालांक‍ि इस दौरान अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में लगातार इजाफा होता जा रहा है. लेकिन 14 मई यानी सोमवार को कर्नाटक में मतदान खत्म होने के दो दिन बाद ही दाम बढ़ा दिए गए.

कर्नाटक चुनाव की वजह से पेट्रोल और डीजल के दामों पर जो ब्रेक लगा था, वह रिलीज होने के बाद एकबार फिर कीमतों में तेजी शुरू हो गई है. विशेषज्ञों का कहना है कि फिलहाल पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से राहत मिलने की उम्मीद कम ही है.

1 Comment

  1. Modi jaise anpadh-ganwaar ko kabhi CM / PM nahi banana chahiye… bakwaas jaise bhashano ke alawaa kuchh ataa nahi.

Leave a Reply