पोंजी घोटाले में आंध्र के कुख्यात जनार्दन रेड्डी गिरफ्तार

बेंगलुरु: कर्नाटक के पूर्व मंत्री और खनन उद्योगपति जी. जनार्दन रेड्डी पोंजी घोटाला मामले में गिरफ्तार हो गए हैं. बीजेपी नेता और खनन कारोबारी जनार्दन रेड्डी को रविवार को बेंगलुरु की केंद्रीय अपराध शाखा ने अम्बिदांत ग्रुप रिश्वत मामले में गिरफ्तार किया है. शनिवार को क्राइम ब्रांच के ऑफिस में उनसे पूछताछ हुई. इसके बाद आज उन्हें गिरफ्तार कर लिया. इस मामले में रेड्डी के विश्वस्त सहायोगी अली खान को भी गिरफ्तार किया है.

कथित तौर पर फरार चल रहे रेड्डी अपने अधिवक्ताओं के साथ पुलिस के समक्ष पेश हुए. उन्होंने दावा किया कि उनके खिलाफ जो आरोप लगाए गए हैं वह राजनीतिक साजिश का हिस्सा हैं. करोड़ों रुपए के लेन-देन के मामले में सीसीबी पुलिस को बुधवार से ही रेड्डी की तलाश थी. यह लेन-देन कथित रूप से एक पोंजी योजना से संबंधित है.

सीसीबी को खान की भी तलाश थी. खान ने अम्बिदांत मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड के सैयद अहमद फरीद को प्रवर्तन निदेशालय की जांच से बचाने के लिए उसके साथ 20 करोड़ रुपए का कथित रूप से सौदा किया था. फरीद की कंपनी अम्बिदांत मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड पोंजी योजना में कथित रूप से शामिल थी.

केंद्रीय अपराध शाखा के अतिरिक्त सीपी, आलोक कुमार ने कहा, ‘हमने विश्वसनीय साक्ष्य और गवाहों के बयान के आधार पर उन्हें गिरफ्तार करने का निर्णय लिया है. हम पैसे वसूलने और निवेशकों को देने जा रहे हैं.’ रेड्डी को 24 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

क्राइम ब्रांच के समक्ष पेश होने से पहले स्थानीय टीवी चैनलों पर एक वीडियो सामने आया, जिसमें रेड्डी कह रहे हैं कि वह न तो हैदराबाद में छुपे हैं और न ही भगोड़ा हैं. रेड्डी ने वीडियो क्लिप में कहा कि कुछ टीवी चैनल चला रहे हैं कि वह हैदराबाद में हैं, जबकि मैं बेंगलुरु में ही हूं और अपराध शाखा के समक्ष पेश होने जा रहा हूं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.