जब एफआईआर कराने लोग जुलूस लेकर गए, लेकिन सुनवाई फिर भी नहीं हुई

जब एफआईआर कराने लोग जुलूस लेकर गए, लेकिन सुनवाई फिर भी नहीं हुई

नई दिल्ली : कभी आपने सुना है कि एफआईआर कराने के लिए भी लोगों को जुलूस लेकर जाना पड़े. यूपी के योगी राज में यही हो रहा है. पुलिस शरीफ लोगों की सुनवाई पुलिस भी नही करती. हालत ये हैं कि दफा 420 के मामले में पुलिस एफआईआर तक दर्ज करने को तैयार नहीं है. गाजियाबाद की अंतरिक्ष संस्कृति सोसायटी के लोगों को बाकायदा थाने का घेराव करना पड़ा. इसके बावजूद एफआईआर नहीं हुई.

आवंटियों ने बिल्डर के खिलाफ लिखित शिकायत दी है. धोखाधड़ी कर मुकदमा दर्ज करने की मांग की है. थाना प्रभारी नरेश कुमार ने कहा कि इस मामले में जांच की जाएगी. फिर कार्रवाई होगी.

आवंटियों ने बताया कि अंतरिक्ष रियलटेक प्राइवेट लिमिटेड ने 2010 में प्रोजेक्ट का काम शुरू किया था. 2010 से 2011 के बीच लोगों ने फ्लैट बुक कराए. 2013-14 तक बिल्डर ने फ्लैट का कब्जा देने का वादा किया था. अब तक फ्लैट का कब्जा देना तो दूर निर्माण कार्य पूरा नहीं हुआ. आवंटियों ने कहा कि ऐसा कर बिल्डर-बायर एग्रीमेंट को तोड़ा गया है.

उन्होंने कहा कि विकास शुल्क न चुकाने पर जीडीए द्वारा इस प्रोजेक्ट को सील कर दिया गया है. इससे जो निर्माण कार्य चल रहा था, वो भी रुक गया. आवंटियों ने कहा कि जीडीए और जिला प्रशासन भी आवंटियों की मदद नहीं कर रहा.